काशी में गंगा दशहरा पर भक्तों ने लगाई आस्था और मोक्ष कामना की डुबकी

वाराणसी: गंगा दशहरा हिंदुओं का बड़ा त्योहार है । ज्येष्ठ शुक्ल दशमी को गंगा दशहरा कहते हैं। इस दिन स्नान, दान और व्रत का महत्व होता है। स्कन्दपुराण में लिखा हुआ है कि, ज्येष्ठ शुक्ल की दशमी संवत्सरमुखी  है। इसमें स्नान और दान का विशेष महत्व है। ऐसा करने वाला महापातकों के बराबर के 10 पापों से छूट जाता है।

GANGA-DASHEHRA
पुराणों में कहा गया है की जो भी भक्त इस दिन इस गंगा की अविरल धारा में डुबकी लगता है उसे बैकुंठ की प्राप्ति होती है और इसी आस्था के साथ वाराणसी के दशाश्वमेघ घाट पर देश के कोने-कोने से आए हुए भक्तों ने सुबह की पहली किरण के साथ गंगा में डुबकी लगाई।

यह भी पढ़ें…अपनी उंगलियों पर रखें नजर, देखकर जान जाएंगे भाग्य में है कितना धन

GANGA-SNAAN

गंगा दशहरा का महत्व
पुरोहित आचार्य नरेंद्र शास्त्री ने बताया कि मान्यता के मुताबिक गंगा दशहरा के दिन गंगा  में स्नान करने मात्र से सभी पापों से मुक्ति मिल जाती है। आज के दिन गंगा स्नान करने मात्र से भक्तों के सभी मनोरथ पूर्ण हो जाते है। रामचरित मानस में लिखा है की दशमी के दिन गंगा में मज्जन पान करने मात्र से सभी इच्छित कार्य पूरे होते है तो उसके पितरों तक को मुक्ति मिल जाती है।

GANGA-DASHEHRA1

पौराणिक मान्यता के अनुसार ज्येष्ठ शुक्ल की दशमी को मां गंगा का अवतरण हुआ था। वो इसी दिन भगवान भोले की जटाओं से मुक्त होकर पृथ्वी में जन कल्याणार्थ प्रकट हुई। इस कारण आज के दिन गंगा स्नान का विशेष महत्व है। इसलिए इस दिन ब्रह्म मुहूर्त काल से ही भक्त आस्था की डुबकी लगाने लगते है।