पीएम मोदी के नमामि गंगे को झटका, जापानी कंसल्टेंट कंपनी ने खींचे हाथ

Published by Rishi Published: May 24, 2016 | 6:46 am
Modified: August 10, 2016 | 4:00 am

वाराणसीः पीएम नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्टों में से एक ‘नमामि गंगे’ को तगड़ा झटका लगा है। गंगा नदी को साफ करने की इस महत्वाकांक्षी योजना के लिए टेक्निकल कंसल्टेंसी दे रही जापान की एनजेएस कंसल्टेंट ने इस प्रोजेक्ट से हाथ खींच लिए हैं। बताया जा रहा है कि सरकार ने कंपनी का कॉन्ट्रैक्ट नहीं बढ़ाया था।

कंपनी के सुझावों पर भी विचार नहीं
-बताया जा रहा है कि एनजेएस कंसल्टेंट की ओर से दिए गए सुझावों पर भी अमल नहीं हुआ।
-कंपनी का कॉन्ट्रैक्ट भी खत्म हो गया है। इस वजह से वह आगे काम नहीं करेगी।

नमामि गंगे से जुड़ा है जापान
-गंगा कार्ययोजना के दूसरे चरण का काम जुलाई 2015 में खत्म होना था।
-मोदी के इस प्रोजेक्ट से जापान भी जुड़ा हुआ है।
-जापान की सहयोग एजेंसी जेआईसीए कई काम कराने वाला था, लेकिन कुछ भी नहीं हुआ।
-इनमें 140 एमएलडी सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट के साथ सीवरेज लाइन बिछाना था
पुराने सीवेज सिस्टम की मरम्मत और पुराने सीवेज पंपिंग स्टेशनों का आधुनिकीकरण भी होना था।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App