रायबरेली में व्यापारियों ने रोका डिप्टी CM केशव मौर्य का काफिला, बताईं समस्याएं

अफसरशाही पर केशव मौर्य बोले- अफसरों की क्या मज़ाल कि सरकार की न सुनें

फतेहपुर/रायबरेली: प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य मंगलवार (04 जुलाई) को जिले के भिटौरा में गंगा नदी के दर्शन और पूजा-पाठ के लिए आए थे। यहां मीडिया से बात करते हुए उन्होंने अफसरशाही पर हमला किया, कहा, कि ‘अफसरों की क्या मजाल कि वो सरकार की ना सुनें। वहीं, सूबे की लगातार बिगड़ती कानून-व्यवस्था पर केशव मौर्य ने कहा, कि प्रदेश में जो भी घटनाएं हो रही हैं, उसके खुलासे भी पुलिस जल्द से जल्द कर रही है। योगी सरकार कानून-व्यवस्था को लेकर बहुत सख्त है।

दूसरी तरफ, रायबरेली जिले की बछरावां पुलिस के हाथ-पांव उस वक्त फूल गए, जब स्थानीय व्यापरियों ने डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या का काफिला रोक लिया। बता दें, कि लखनऊ-इलाहबाद एनएच पर स्थित बछरावां फ्लाईओवर के नीचे बड़े-बड़े गड्डे हैं और कल हुई बारिश से लोगो को आने जाने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। आज डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के फतेहपुर होते हुए लखनऊ जाने के कार्यक्रम पर सेतु निगम के डिप्टी प्रोजेक्ट अफसर सुरेश चंद्र गड्ढे भरवाने पहुंचे, जिन्हें व्यापरियों ने घेर लिया। उसी दौरान उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या का काफिला उधर से गुजरा। व्यापारियों ने इसे भी रोक लिया। इस दौरान व्यापारियों ने अपनी समस्याओं से संबंधित ज्ञापन डिप्टी सीएम को सौंपा। उनके आश्वासन पर बंधक बनाये गए सेतु निगम के अधिकारी को मुक्त किया।

निपट गया राजभर मुद्दा
केशव मौर्य ने कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर मुद्दे पर कहा, कि ‘कुछ व्यक्तिगत बातें थी, जिनका समाधान हो गया है।’ बता दें कि सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के विधायक और योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने गाजीपुर के डीएम को हटाने की मांग को लेकर इस्तीफे तक की धमकी दी थी।

जब हम मैदान में होंगे तो..
वहीं, उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को मिली हार पर प्रदेश के डिप्टी सीएम ने कहा, कि ‘जब हम लड़ाई के मैदान पर आएंगे तो हालात दूसरे होंगे।’

जानवर ना पहुंचाएं फसल को नुकसान, कर रहे काम
केशव मौर्य बोले, ‘हम उन जानवरों के लिए भी काम कर रही है जिनकी वजह से किसानों की खेती बर्बाद हो रही है। उस पर भी काम कर रहे हैं।’ उन्होंने कहा, ‘जल्द ही गौशालाओं का निर्माण किया जाएगा। जिससे उन जानवरों को यहां लाया जा सके जिनकी वजह से किसानों की फसलों को नुकसान पहुंचता है।’

कानून सबके लिए एक है
वहीं, गौरक्षकों द्वारा पिटाई आदि की घटनाओं पर मौर्य बोले, ‘कानून सबके लिए एक है और जो भी कानून अपने हाथ में लेगा, उस पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी।’