Top

पाकिस्तान में हिंसक झड़पों के बाद कानून मंत्री ने दिया इस्तीफा

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 27 Nov 2017 9:44 AM GMT

पाकिस्तान में हिंसक झड़पों के बाद कानून मंत्री ने दिया इस्तीफा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

इस्लामाबाद : पाकिस्तान के कानून मंत्री जाहिद हामिद ने पुलिस और विभिन्न धर्मो के प्रदर्शनकारियों के बीच झड़पों के बाद सोमवार को पद से इस्तीफा दे दिया। सरकार और प्रदर्शनकारियों के बीच रविवार रात को हुए एक समझौते के तहत कानून मंत्री ने इस्तीफा दिया है।

इस्लामाबाद के फैजाबाद इंटरचेंज और देश के कई अन्य हिस्सों में प्रदर्शनकारियों और सुरक्षाबलों के बीच दो दिन तक चली झड़पों के बाद यह समझौता हुआ है। इन झड़पों में छह लोगों की मौत हो गई जबकि सैकड़ों लोग घायल हो गए।

इस समझौते के बाद प्रदर्शनकारी नेता सोमवार को संवाददाता सम्मेलन में धरने को खत्म करने का ऐलान कर सकते हैं।

कानून मंत्री ने देश को संकट की स्थिति से बाहर निकालने के लिए रविवार रात को प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी के समक्ष इस्तीफा पेश कर दिया।

ये भी देखें :पाकिस्तान में हालात और बिगड़े, बेहद कड़े पुलिस अभियान के बाद भी झड़पें जारी

सूत्रों ने डॉन न्यूज को बताया कि अब्बासी आज शाम तक उनके इस्तीफे को स्वीकार कर सकते हैं।

फैजाबाद में इकट्ठा हुए प्रदर्शनकारी तहरीक-ए-खत्म-ए-नबुवात, तहरीक-ए-लब्बैक या रसूल अल्लाह (टीएलवाई) और सुन्नी तहरीक पाकिस्तान (एसटी) के हैं। ये लोग हामिद को बर्खास्त करने और चुनाव अधिनियम 2017 में खत्म-ए-नबूवत शपथ के संशोधन में शामिल लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की मांग कर रहे थे, जिसे बाद में नेशनल असेंबली ने 'लेखन त्रुटि' बताया था।

सरकार ने बाद में इसमें संशोधन को वापस ले लिया था।

सरकार ने रविवार को फैजाबाद और इस्लामाबाद एवं रावलपिंडी के अन्य हिस्सों में उग्र प्रदर्शनकारियों से निपटने के लिए पंजाब रेंजर्स की तैनाती की थी।

इस्लामबाद में लगभग 1,000 रेंजर्स की तैनाती की गई थी।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story