ईद की नमाज के बाद थाना फूंकने का प्रयास, पथराव-फायरिंग, भारी पुलिस बल तैनात

यूपी के मेरठ में ईद की नमाज के बाद (सोमवार, 26 जून) को थाना किला परीक्षितगढ़ थाने में लोगों की भीड ने थाने पर पथराव कर थाने को आग लगाने का भी प्रयास किया।

Published by tiwarishalini Published: June 26, 2017 | 5:34 pm
Modified: June 26, 2017 | 5:38 pm
मेरठ: ईद की नमाज के बाद भीड़ ने किया थाना फूंकने का प्रयास, पथराव-फायरिंग

मेरठ: यूपी के मेरठ में ईद की नमाज के बाद (सोमवार, 26 जून) को थाना किला परीक्षितगढ़ में लोगों की भीड ने थाने पर पथराव कर थाने को आग लगाने का भी प्रयास किया। इस दौरान भीड ने फायरिंग भी की। हालात बिगड़ते  देख मौके पर पहुंची भारी पुलिस फोर्स ने भीड़ को खदेड कर हालात को काबू में किया। हमले के दौरान भीड़ में महिलाएं भी शामिल रही।

क्या है पूरा मामला?
दरअसल, किला परीक्षितगढ़ कस्बे के ढाक पीर खजूरी मोहल्ले के बिल्लू अब्बासी के बेटे अमिताभ अब्बासी की हत्या कर दी गई थी। उसका शव इकला के जंगल में नग्न अवस्था में मिला था।

परिजनों के मुताबिक, अमिताभ शुक्रवार शाम से गायब था। काफी तलाश करने के बाद भी उसका कुछ पता नहीं चला था। सुबह ग्रामीणों ने इकला गांव के जंगल में एक शव पड़ा होने की सूचना दी थी। शव की शिनाख्त अमिताभ के रूप में हुई थी।

उसकी हत्या धारदार हथियार से की गई थी। उसके एक हाथ की तीन अंगुलियां भी काट दी गई थी। परिजनों ने कस्बे के वसीम और नदीम के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी। लेकिन वसीम के परिजनों ने उसे निर्दोष बताया था। जिसके बाद आज ईद की नमाज के बाद भारी संख्या में लोग थाने में उसे छुड़ाने के लिए पहुंचे थे।

यह भी पढ़ें … कश्मीर: सुरक्षा बलों और पत्थरबाजों के बीच हिंसक झड़पों से फीका पड़ा ईद का रंग

थाने में आग लगाने का प्रयास
थाने में दोनों आरोपी को छुड़ाने के लिए भीड ने थाने में हंगामा शुरू कर दिया। उन्होंने नामजद रिपोर्ट को गलत बताते हुए वसीम को छोड़ने के लिए कहा।

थाने पहुंची भीड़ ने फर्नीचर फेंकना शुरू कर दिया। पुलिस ने रोकने का भी प्रयास किया, लेकिन भीड़ ने पथराव शुरू कर दिया।

हालात बिगड़ते देख भारी पुलिस बल थाने में पहुंच गया। आसपास के थानों की पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। भीड़ ने थाने में आग लगाने का भी प्रयास किया। पुलिस ने लाठीचार्ज करते हुए भीड़ को खदेड दिया। इस दौरान भीड़ ने फायरिंग भी की।

कई लोग लिए गए हिरासत में 
पुलिस ने इस मामले में 10 से ज्यादा लोगों को हिरासत में लिया है। क्षेत्र में तनाव को देखते हुए पुलिस भारी संख्या में तैनात की गई है। मामले में एसओ विनोद कुमार का कहना है कि पथराव और तोडफोड करने वालों को किसी भी कीमत पर छोड़ा नही जाएगा। एसपी देहात राजेश कुमार ने हंगामा कर रहे लोगों से कहा कि यदि उन्हें कोई शिकायत है तो वह अपनी लिखित तहरीर दें। पुलिस निष्पक्ष जांच कर कार्रवाई करेगी।

आगे की स्लाइड्स में देखिए फोटोज