Top

NIA ने दर्ज किया गिलानी और कुछ अन्य हुर्रियत नेताओं के खिलाफ मामला

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 19 May 2017 10:42 AM GMT

NIA ने दर्ज किया गिलानी और कुछ अन्य हुर्रियत नेताओं के खिलाफ मामला
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

श्रीनगर : राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा से जम्मू एवं कश्मीर में 'विनाशक' गतिविधियों के लिए कथित तौर पर रकम प्राप्त करने के मामले में अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी और कुछ अन्य हुर्रियत नेताओं के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

ये भी देखें : यासीन कहिन ! टीवी रिपोर्टर मेरे बेडरूम में घुस आई और आरोप भी लगा दिया…मान लें क्या साहेब

एनआईए ने शुक्रवार को कहा कि आतंकवाद निरोधक जांच एजेंसी का एक दल श्रीनगर आया है और वह गिलानी, हुर्रियत के प्रांतीय अध्यक्ष नईम खान, जेकेएलएफ नेता फारूक अहमद दार उर्फ बिट्टा कराटे और तहरीक ए हुर्रियत के नेता गाजी जावेद बाबा से पूछताछ करेगा।

जांच एजेंसी ने कहा, "एनआईए ने लश्कर ए-तैयबा प्रमुख हाफिज मुहम्मद सईद और दूसरी पाकिस्तानी आतंकियों और एजेंसियों द्वारा जम्मू एवं कश्मीर में विनाशक गतिविधियों को अंजाम देने के लिए हुर्रियत नेताओं के वित्तपोषण को लेकर एक प्राथमिक जांच दर्ज की है।"

इसमें आरोप लगाया गया है कि कश्मीर घाटी में सुरक्षा बलों पर पत्थरबाजी कराने, स्कूलों और दूसरे सरकारी प्रतिष्ठानों को जलाने के लिए हुर्रियत को पाकिस्तान से रकम भेजी जा रही है। एनआईए अधिकारी ने कहा, जल्द ही दल हुर्रियत नेताओं को पूछताछ के लिए बुलाएगा।

एक निजी न्यूज़ चैनल द्वारा यह दिखाए जाने के बाद कि पाकिस्तान घाटी में अशांति फैलाने के लिए हुर्रियत नेताओं को रकम भेजी जा रही है, एनआईए ने यह कदम उठाया है। एनआईए ने कहा कि एक नोटिस इस न्यूज़ चैनल से स्टिंग का वीडियो लेने के लिए भेजी गई है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story