UP की जेलों में OVER-CROWDING, कभी भी हो सकता है हादसा

Published by Admin Published: March 6, 2016 | 3:57 pm
Modified: August 10, 2016 | 4:04 am

फाइल फोटो

Raj Kumar
Raj Kumar

लखनऊ: यूपी की जेलों में बंदियों की संख्या लगातार बढ़ रही है। पर जेल की बंदी क्षमता में इसके अनुपात में खासा कमी है। यदि हम पिछले 10 वर्षों के आंकड़ों पर नजर डालें तो जेलों में 169 प्रतिशत ओवर क्राउडिंग है। यह जेलों की बंदी क्षमता से काफी अधिक है। इससे यूपी कारागारों की बदहाल स्थिति का अंदाजा लगाया जा सकता है।

67 जेलों में 52,780 बंदी क्षमता पर रह रहे हैं 91,232 बंदी
यूपी के विभिन्न श्रेणी की 67 जेलों में कुल 52,780 बंदी क्षमता है लेकिन इन जेलों में 91,232 बंदी रखे जा रहे हैं। कारागार प्रशासन एवं सुधार विभाग के 2015-16 के आय-व्यय के आंकड़े यही बताते हैं।

 

 वर्ष                बंदी क्षमता            कुल औसत बंदी
2006              36,070                 63,443

2007              37,843                 72,087

2008              42,176                 78,277

2009              44,439                 83,309

2010              45,221                 83,750

2011              47,048                 84,225

2012              47,518                 80,358

2013              48,550                 82,834

2014              52,780                 86,269

2015              52,780                 91,232

महिला बंदी क्षमता 2,658, रखे जा रहे 3,428
-आंकड़ों के अनुसार प्रदेश की जेलों में 31 दिसंबर 2015 तक महिला बंदियों के रखे जाने की क्षमता 2,658 थी।
-जबकि जेलों में 3,428 महिला बंदियों को रखा जा रहा है।
-खास बात यह है कि इन महिला बंदियों के साथ उनके 6 वर्ष से कम आयु के 218 लड़के और 209 लड़कियां यानि कुल 427 बच्चे भी कारागारों में रह रहे हैं।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App