PM मोदी बोले- अखिलेश जी मैं तो बड़े गर्व से गधे से प्रेरणा लेता हूं, आप क्यों घबरा रहे हो ?

यूपी विधानसभा चुनाव- 2017 के पांचवे चरण के चुनाव प्रचार के लिए गुरूवार (23 फरवरी) को पीएम नरेंद्र मोदी बहराइच में जनसभा को संबोधित किया।

Published by tiwarishalini Published: February 23, 2017 | 1:53 pm
Modified: February 23, 2017 | 3:22 pm
LIVE: बहराइच में चुनावी रैली को संबोधित कर रहे हैं PM, लगे मोदी-मोदी के नारे

बहराइच: यूपी विधानसभा चुनाव- 2017 के पांचवे चरण के चुनाव प्रचार के लिए गुरूवार (23 फरवरी) को पीएम नरेंद्र मोदी ने बहराइच में जनसभा को संबोधित किया। पीएम मोदी ने कहा कि पिछली बार तो कोहरे की वजह से मुझे बहराइच आने का मौका नहीं मिला, लेकिन इस बार तो बीजेपी की आंधी है।

यह भी पढ़ें … गुजराती ‘गधे’ तो बहाना, PM ‘मोदी’ हैं निशाना: अखिलेश भैया बोले- बच्चन जी! ‘प्लीज डोंट डू दिस’

गधे वाले बयान पर पीएम मोदी ने अखिलेश पर किया पलटवार
-पीएम मोदी ने सीएम अखिलेश के गधे वाले बयान पर पलटवार किया।
-मोदी ने कहा कि इतने साल में मैंने बहुत आलोचना झेली है।
-अखिलेश जी आप मोदी और बीजेपी पर हमला करो, तो समझ सकता हूं, पर अब आप गधे पर भी हमले कर रहे हो? गधे से भी डर लगने लगा क्या ?
-अगर खुले दिमाग से देखो तो गधा भी प्रेरणा देता है और खर्च भी कम करता है।
-पीएम ने कहा कि मैं बिना छुट्टी लिए काम करता हूं और बड़े गर्व से गधे से प्रेरणा लेता हूं।
-गधा भेदभाव नहीं करता चाहे उसकी पीठ पर चीनी हो या चूना।
-गधा हमेशा अपने मालिक के प्रति वफादार होता है और जिम्मेदारियों को भलीभांति निभाता है।
-अखिलेश जी जिनके गले लग कर आप वोट मांग रहे हो उसी यूपीए सरकार ने साल 2013 में गुजरात के गधों का पोस्टल स्टांप निकला था।
-अखिलेश जी आप जहां के गधे कि बात कर रहे हैं, वो वही जगह है जहां महात्मा गांधी, सरदार पटेल ने जन्म लिया।
-भगवान कृष्ण ने उसे अपनी कर्मभूमि बनाया।
-सीएम अखिलेश पर तंज करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि मैं हैरान हूं आपकी जातिवादी मानसिकता से, आप तो पशुओं में भी ऊंच-नीच का भाव देखने लग गए, गधा आपको इतना बुरा लगने लगा क्या? 

पांचवे चरण में इन 11 जिलों में होंगे चुनाव
-बता दें कि पांचवें चरण में 11 जिलों की 52 सीटों पर वोटिंग 27 फरवरी को होगी।
-फैजाबाद, अंबेडकर,बलरामपुर, गोंडा, बहराइच, बस्ती, संतकबीरनगर, श्रावस्ती, सिद्धार्थनगर, सुल्तानपुर, अमेठी।

 

अगली स्लाइड में जानिए और जब पीएम मोदी बोले शर्म नहीं आ रही, काम बोलता है कहते हुए ..

शर्म नहीं आ रही, काम बोलता है कहते हुए ..
-मैं हैरान हूं कि उत्तर प्रदेश के सरकार में मंत्री अपने काम का कोई हिसाब नहीं दे रहे हैं।
-उत्तर प्रदेश की जनता उत्तर प्रदेश की भावी पीड़ी का भविष्य सुरक्षित करने के लिए उत्तर प्रदेश में कमल खिलाने में लगी है।
-सपा की सरकार ऐसी है जिनके काम नहीं बोलते है उनके कारनामे बोलते हैं।
-यूपी के सीएम अपने 5 सालों के कार्यों का उत्तर नहीं दे रहे हैं और अभी भी बिना संकोच और शर्म के बोल रहे हैं कि काम बोलता है।
-उत्तर प्रदेश की जनता अवसरवादी गठबंधन को कभी नहीं स्वीकार करती।

राम और कृष्ण की धरती पर बहन बेटियां सुरखित नहीं ….
-राम और कृष्ण की धरती पर आज बहन और बेटियां अपने आप को सुरक्षित महसूस नहीं करती हैं।
-ब्रह्मा जी से जुड़ा बहराइच आज खनन माफिया, भू-माफिया, खदान माफिया और रेत माफियाओं के नाम से जाना जाने लगा है।
-पूरा देश हमारा है, देश का कोना-कोना हमारा है, ये नफरत का भाव अखिलेश जी आपको शोभा नहीं देता।

‘काम’ नहीं ‘कारोबार’ बोलता है 
-पीएम मोदी ने कहा कि एक गांव में एक कुनबा था जिसके पास एक कार थी।
-वो कार ऐसी थी जिसमें हॉर्न के सिवाए सबकुछ बजता है।
-इनकी भी सरकार ऐसी है ‌ज‌िसका काम नहीं कारोबार और कारनामे बोलते हैं।

अगली स्लाइड में जानिए पीएम ने क्या बताया बहराइच से अपना नाता ?

पीएम ने बताया बहराइच से अपना नाता
-पीएम मोदी ने कहा कि बहराइच से मेरा पुराना नाता है।
-मैं यहां बीजेपी संगठन के लिए काम करता था, हर जिले में जाता था।
-एक बार मैं बहराइच पहुंचा। यहां संगठन की मीटिंग थी।
-अचानक अटल जी का संदेश आया।
-उन्होंने कहा कि तुम जल्दी लौट आओ, मुझे जाना पड़ा।
-यहीं मेरी आखिरी मीटिंग हुई, इसके बाद ही मैं गुजरात का सीएम बना
-बहराइच मुझे हमेशा याद रहेगा, मैं यूपी का सांसद हूं।
-यहां से मुझे भारी समर्थन मिला।
-यहां के सांसद के नाते मैं यहां की जनता से वादा करता हूं कि जब पहली मीटिंग होगी तो उसमें पहली ही मीटिंग में कर्ज माफी का फैसला हो जाए।

अखिलेश-राहुल पर गायत्री प्रजापति को लेकर कसा तंज
-पीएम मोदी ने कहा कि भारत देश में लोग शुभ काम करते हैं तो गायत्री मंत्र पढ़ते हैं।
-लेकिन यहां ये (अखिलेश-राहुल) दोनों गायत्री प्रजापति के लिए वोट मांगते हैं और उनके नाम का मंत्र पढ़ते हैं।
-इन लोगों को सत्ता में आने का कोई हक नहीं है।