×

जाट आंदोलन में बड़े अफसरों ने की कोताही, प्रकाश सिंह ने सौंपी रिपोर्ट

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 13 May 2016 7:23 AM GMT

जाट आंदोलन में बड़े अफसरों ने की कोताही, प्रकाश सिंह ने सौंपी रिपोर्ट
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

चंडीगढ़ः यूपी के पूर्व डीजीपी प्रकाश सिंह कमेटी ने जाट आंदोलन के दौरान हुई हिंसा और ड्यूटी में कोताही बरतने वाले अफसरों पर अपनी रिपोर्ट सौंप दी है। सीएम मनोहर लाल खट्टर को कमेटी ने रिपोर्ट सौंपी। इसमें कई पुलिस अफसरों पर काम में कोताही बरतने का आरोप है। ज्यादातर मामले रोहतक जिले के हैं। प्रकाश सिंह ने कहा है कि अगर दोषी अफसरों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होगी, तो सही संदेश नहीं जाएगा।

प्रकाश सिंह ने क्या कहा?

-रिपोर्ट में जाति के आधार पर कोई विश्लेषण नहीं किया गया।

-हरियाणा में हुई घटनाएं दुखी करती हैं।

-जांच कमेटी रोहतक, झज्जर, जींद, हिसार, कैथल, भिवानी, सोनीपत और पानीपत गई।

-जांच की वीडियो रिकॉर्डिंग की गई है, दो वॉल्यूम्स में रिपोर्ट सौंपी है।

-कमेटी रिपोर्ट का दूसरा वॉल्यूम गोपनीय है, इसके बारे में सरकार चाहे तो बताएगी।

अफसरों पर उठी है उंगली

-प्रकाश सिंह कमेटी ने कई अफसरों की भूमिका पर उंगली उठाई है।

-कई आईएएस और आईपीएस के बारे में कमेटी ने प्रतिकूल टिप्पणी की है।

-90 अफसरों पर कमेटी ने टिप्पणी की, इनमें से एक-तिहाई रोहतक के हैं।

-कमेटी ने दंड देने का जिम्मा राज्य सरकार पर छोड़ दिया है।

पुलिस व्यवस्था पर भी सवाल उठाए

-पूर्व डीजीपी प्रकाश सिंह ने देश की पुलिस व्यवस्था को जर्जर बताया।

-पुलिस सुधार पर सुप्रीम कोर्ट की कमेटी के अध्यक्ष रहे हैं प्रकाश सिंह।

-बड़ी चुनौती मिलने पर अफसर अपेक्षा के मुताबिक कदम नहीं उठा पाते।

-इसका बड़ा उदाहरण हरियाणा में देखने को मिला है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story