×

डिजिटल इंडिया में जन भागीदारी बढ़ाने का पीएम का आह्वान

प्रधानमंत्री (पीएम) नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इंफार्मेशन टेक्नॉलॉजी (आईटी) पर आधारित वैश्विक सम्मेलन (डब्ल्यूसी) और नेस्कॉम इंडिया लीडरशिप फोरम 2018 का हैदराबाद में सोमवार (19 फऱवरी) को उद्घाटन किया।

priyankajoshi

priyankajoshiBy priyankajoshi

Published on 19 Feb 2018 11:42 AM GMT

डिजिटल इंडिया में जन भागीदारी बढ़ाने का पीएम का आह्वान
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

हैदराबाद: प्रधानमंत्री (पीएम) नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इंफार्मेशन टेक्नॉलॉजी (आईटी) पर आधारित वैश्विक सम्मेलन (डब्ल्यूसी) और नेस्कॉम इंडिया लीडरशिप फोरम 2018 का हैदराबाद में सोमवार (19 फऱवरी) को उद्घाटन किया।

मोदी ने कहा कि देश ‘डिजिटल इंडिया’ की ओर बढ़ रहा है। इस दिशा में सिर्फ सरकार की तरफ से किए गए प्रयास पर्याप्त नहीं हैं। इसमें युवाओं और जनता को भी आगे आना होगा। उन्होंने कहा कि डिजिटल लेन-देन से राज्य के खजाने में बचत होती है और नकदी की अतिरिक्त मांग भी घटती है। इसके अलावा बचत भी होती है क्योंकि व्यक्ति जरूरत के मुताबिक ही डिजिटल लेन देन करता है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय वित्तीय समावेशन योजना ‘जन धन’ के जरिए 57 हजार करोड़ रुपए जमा हुए हैं।

पीएम ने कहा कि देश के एक लाख गांवों को ऑप्टिकल फाइबर डिजिटल कनेक्टिविटी से जोड़ा गया और देश में छह करोड़ लोगों को डिजिटली तौर पर साक्षर किया गया। तीन तीनों तक चलने वाले इस समारोह में 50 सत्रों के दौरान दुनियाभर से आए 200 से अधिक प्रतिष्ठित व्यक्ति व्याख्यान देंगे।

केंद्रीय सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्री रवि शंकर प्रसाद इस समारोह की अध्यक्षता कर रहे थे। इस समारोह में डिजिटल अर्थव्यवस्था में शासन के पुनर्विचार’ विषय पर परिचर्चा होगी। इस मौके पर तेलंगाना के आईटी मंत्री के टी रमा राव के अलावा श्रीलंका, बंगलादेश, अर्मेनिया तथा अन्य देशों के प्रतिनिधि मौजूद रहे।

मोदी ने कर्नाटक के लोगों से पूछा- मिशन वाली सरकार या कमीशन वाली

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कर्नाटक विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पर सोमवार (19 जनवरी) को सीधा हमला बोला और राज्य में कांग्रेस की सरकार को कमीशन वाली सरकार करार दिया। मोदी ने जनसभा में लोगों से पूछा कि आपको मिशन वाली सरकार चाहिए या कमीशन वाली।

मोदी श्रवणबेलगोला के बाद मैसूर पहुंचे और महाराजा कॉलेज ग्राउंड में जनसभा को संबोधित करते हुए कांग्रेस सरकार पर निशाना साधा और उन पर जनता की आंख में धूल झोंकने का आरोप लगाया। साथ ही जनता से बीजेपी की मिशन वाली सरकार चुनने की अपील की।

मोदी ने कांग्रेस सरकार पर कमीशन खोरी का आरोप लगाया और कहा 'मैंने बेंगलुरु में कहा था कि ये 10 प्रतिशत कमीशन का कारोबार है। लोग नाराज हो गए। कुछ ने मैसेज किया, फोन किया। नाराजगी व्यक्त की और कहा कि आपकी जानकारी सही नहीं है, ये दस नहीं ये इससे भी ज्यादा वाले हैं।'

पीएम ने कहा, 'मैं कर्नाटक के लोगों का गुस्सा समझ सकता हूं, देश का नौजवान जाग चुका है। देश को लूटने देने के लिए तैयार नहीं है। उन्होंने जनसभा में मौजूद लोगों से पूछा , कर्नाटक में कमीशन वाली सरकार चाहिए या मिशन वाली सरकार चाहिए?

उन्होंने केंद्र में पूर्व की यूपीए सरकार की भी आलोचना कि और कहा कि पिछली सरकार के दौरान संसद में जब रेल बजट रखा जाता था तो तमाम ट्रेनों की घोषणाएं होती थीं, लेकिन जब हमने सरकार में आकर इन योजनाओं के बारे में पूछा तो पता चला कि 1500 प्रोजेक्ट का संसद में ऐलान तो हुआ, लेकिन उन पर कोई काम नहीं हुआ। मोदी ने विकास का अपना विजन भी बताया ओर कहा कि 'आज मेरा सौभाग्य रहा कि मुझे कुछ महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट का मैसूर की धरती पर लोकार्पण करने का अवसर मिला।

priyankajoshi

priyankajoshi

इन्होंने पत्रकारीय जीवन की शुरुआत नई दिल्ली में एनडीटीवी से की। इसके अलावा हिंदुस्तान लखनऊ में भी इटर्नशिप किया। वर्तमान में वेब पोर्टल न्यूज़ ट्रैक में दो साल से उप संपादक के पद पर कार्यरत है।

Next Story