Top

मुलायम से खफा अजित का नया पैंतरा, पिछड़े वोट बैंक में सेंध की तैयारी

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 1 Jun 2016 9:16 PM GMT

मुलायम से खफा अजित का नया पैंतरा, पिछड़े वोट बैंक में सेंध की तैयारी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

आगराः राज्य सभा में चुने जाने के लिए सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह का साथ न मिलने से नाराज आरएलडी प्रमुख अजित सिंह अब सपा को अपनी ताकत दिखाने जा रहे हैं। उन्होंने आठ जून को रालोद की ओर से पिछड़ा वर्ग सम्मेलन करने का एलान किया है। बता दें कि पिछड़े वर्ग के ही यादव, मुलायम की पार्टी के वोट बैंक का खास हिस्सा हैं।

यह भी पढ़ें...साइकिल पर सवार होने से अजित सिंह का इनकार, मुलायम से टूटी बातचीत

क्या है अजित सिंह की योजना?

-8 जून को सूर सदन में पिछड़ा वर्ग सम्मेलन करेंगे।

-इसमें वह खुद, महासचिव जयंत चौधरी, सभी विधायक, पूर्व सांसद और पूर्व विधायक हिस्सा लेंगे।

-सम्मेलन के लिए प्रचार-प्रसार, स्वागत और व्यवस्था समितियां बनाई गई हैं।

-आरएलडी के पदाधिकारियों को सम्मेलन में भीड़ जुटाने का लक्ष्य दिया गया है।

सम्मेलन करने की क्या है वजह?

-आरएलडी के मुखिया मुलायम को अपनी ताकत दिखाना चाहते हैं।

-आगरा और आसपास के ओबीसी वोटरों में अपनी पैठ दिखाने का भी है इरादा।

-मुलायम ने राज्य सभा उम्मीदवारी के लिए समर्थन नहीं दिया था।

आगरा जिले के किन इलाकों में अजित की पकड़?

-नौ विधानसभा सीटों पर अजित सिंह की पार्टी की वोटरों पर पकड़ मानी जाती है।

-इनमें खैरागढ़, फतेहपुर सीकरी, आगरा ग्रामीण और एत्मादपुर भी हैं।

-ये सीटें आरएलडी का परंपरागत वोट बैंक यानी जाट बहुल हैं।

-अब ओबीसी वोटरों को जोड़कर भी सपा को अजित सिंह नुकसान पहुंचाना चाहते हैं।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story