जापान की राजधानी टोक्यो में शख्स ने चाकू से ली 19 दिव्यांगों की जान

Published by Rishi Published: July 26, 2016 | 5:02 am
Modified: August 10, 2016 | 3:57 am

टोक्योः जापान की राजधानी टोक्यो के सागामिहारा में एक शख्स ने चाकूबाजी कर 19 लोगों की हत्या कर दी। मंगलवार तड़के हुए इस घटना में 26 लोगों के घायल होने की खबर है। घायलों में 20 की हालत गंभीर बताई जा रही है। घटना दिव्यांगों के एक देखभाल केंद्र में हुई है। आरोपी ने बाद में खुद को पुलिस के हवाले कर दिया।

जापान के सबसे ज्यादा बिकने वाले अखबार असाही शिम्बुन ने पुलिस के हवाले से बताया है कि हमलावर ने पूछताछ में बताया कि वह दुनिया को दिव्यांगों से मुक्त कराना चाहता है।

japan-3
घटना के बाद संस्थान के बाहर एंबुलेंस और पुलिस की गाड़ियां

जापानी सरकारी ब्रॉडकास्टर एनएचके ने बताया कि आरोपी ने सुकुई यामायूरी येन (सुकुई लिली गार्डन) में ये हमला किया। जापानी मीडिया के मुताबिक केंद्र के स्टाफ ने स्थानीय समय के मुताबिक रात करीब ढाई बजे पुलिस को फोन किया और बताया कि चाकू लिए हुए एक शख्स वहां घुस आया है। आरोपी की उम्र 26 साल बताई जा रही है।

टीवी चैनलों की फुटेज के मुताबिक केंद्र के बाहर काफी संख्या में एंबुलेंसों को खड़े देखा गया। घायलों को इनके जरिए अलग-अलग हॉस्पिटल में भेजा गया है। मीडिया में ये भी बताया गया कि हमलावर युवक पहले दिव्यांगों के इस केंद्र में ही काम करता था। जापान के इतिहास में इतने बड़े पैमाने पर हत्या का ये पहला मामला माना जा रहा है। पुलिस के मुताबिक वह हमले की वजह का पता करने की कोशिश कर रही है।

japan-2
संस्थान से घायल को ले जाती एंबुलेंस

इलाके में रहने वाले एक व्यक्ति ने मीडिया को बताया कि पुलिस की गिरफ्त में आया आरोपी सुनहरे बालों वाला है और वह काले कपड़े पहने हुए था। क्योडो न्यूज के मुताबिक केंद्र में उन दिव्यांगों की देखभाल की जाती थी, जिनके घरवाले दिनभर काम के सिलसिले में घर से बाहर होते थे।

पहले भी हो चुकी हैं घटनाएं
-जून 2001 में ओसाका के इकेदा प्राथमिक स्कूल में चाकूबाजी में 8 बच्चों की मौत हुई थी।
-जून 2008 में एक शख्स ने पहले भीड़ पर ट्रक चढ़ा दी और उसके बाद 18 लोगों को चाकू मारा। टोक्यो के अकीहाबारा में हुई इस घटना में 7 लोग मारे गए थे।
-सागामिहारा इससे पहले साल 2012 में चर्चा में उस वक्त आया था, जब 1995 में टोक्यो सबवे में नर्व गैस से हमला करने वाले समूह का सदस्य नाओको किकुची यहां से गिरफ्तार किया गया था।