Top

सामूहिक दुष्कर्म : एसआईटी जांच में दोषी पाए गए प्रजापति

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 2 Jun 2017 3:00 PM GMT

सामूहिक दुष्कर्म : एसआईटी जांच में दोषी पाए गए प्रजापति
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : उत्तर प्रदेश की पूर्ववर्ती अखिलेश सरकार में कद्दावर मंत्री रहे गायत्री प्रजापति की सामूहिक दुष्कर्म मामले में मुश्किलें बढ़ गई हैं। प्रजापति विशेष जांच दल की जांच में दोषी पाए गए हैं। मामले की जांच कर रहे एएसपी अनुराग वत्स ने अपनी रपट एसएसपी दीपक कुमार को सौंप दी है। गौरतलब है कि 18 फरवरी को सर्वोच्च न्यायालय के आदेश पर गायत्री प्रजापति और उनके साथियों के खिलाफ गौतमपल्ली थाने में सामूहिक दुष्कर्म, दुष्कर्म की कोशिश और पास्को एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज हुआ था।

ये भी देखें : पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति को हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच से नहीं मिली राहत

बुंदेलखंड की रहने वाली पीड़िता का आरोप था कि मौरंग का पट्टा दिलाने के नाम पर गायत्री व उसके साथियों ने उसके साथ दुष्कर्म किया। इतना ही नहीं गायत्री ने उसकी नाबालिग बेटी के साथ भी दुष्कर्म करने की कोशिश की।

इस मामले की जांच करने वाली आलमबाग की तत्कालीन सीओ अमिता सिंह और हजरतगंज के सीओ अवनीश कुमार मिश्रा को भी जांच में हीलाहवाली करने का दोषी पाया गया है। यही वजह थी कि अदालत ने गायत्री और उसके दो सथियों विकास वर्मा और अमरेंद्र सिंह को जमानत दे दी थी।

गौरतलब है कि जांच के दौरान पीड़िता ने सीओ अमिता सिंह पर धमकाने और बयान बदलने के लिए दबाव डालने का आरोप लगाया था। इतना ही नहीं पीड़िता ने सीओ अमिता सिंह के खिलाफ उसकी बेटी को अगवा करने की रपट चित्रकूट कोतवाली में दर्ज कराई थी।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story