×

योगी सरकार की तीसरी कैबिनेट मीटिंग में बदला आगरा और गोरखपुर एयरपोर्ट का नाम

आगरा एयरपोर्ट का नाम बदलकर दीन दयाल उपाध्याय और गोरखपुर एयरपोर्ट का नाम बदलकर महायोगी गोरखनाथ करने का फैसला हुआ।

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 18 April 2017 1:53 PM GMT

योगी सरकार की तीसरी कैबिनेट मीटिंग में बदला आगरा और गोरखपुर एयरपोर्ट का नाम
X
योगी सरकार की तीसरी कैबिनेट: आगरा और गोरखपुर एयरपोर्ट का बदला नाम, लिए गए ये बड़े फैसले
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: योगी सरकार की तीसरी कैबिनेट मीटिंग मंगलवार (18 अप्रैल) को हुई। इस मीटिंग में गोरखपुर सिविल टर्मिनल का नाम महायोगी गोरखनाथ के नाम पर और आगरा सिविल टर्मिनल का नाम पंडित दीनदयाल उपाध्याय के नाम पर करने का निर्णय हुआ। बता दें, कि इससे पहले 4 अप्रैल और 11 अप्रैल को योगी सरकार के कैबिनेट की मीटिंग्स हुई थीं।

यह भी पढ़ें ... … जब CM योगी आदित्यनाथ ने प्रजेंटेशन के दौरान अपने मंत्री को लगाई फटकार !

और क्या फैसले हुए ?

-‘विकलांगजन विकास विभाग’ का नाम परिवर्तित कर ‘दिव्यांगजन सशक्तीकरण विभाग’ करने का निर्णय।

-हेमा माल‍िनी अभिनीत फिल्म 'एक थी रानी ऐसी भी' को टैक्स फ्री क‍िया गया है।

-यह फिल्म राजमाता सिंधिया के जीवन पर बनी है।

-यह फिल्म राजमाता विजयाराजे सिंधिया का राष्ट्रसेवा के प्रति समर्पण के साथ-साथ देशवासियों को समाज सेवा एवं महिला सशक्तीकरण के लिए प्रेरित करती है।

-प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना तथा पुनर्गठित मौसम आधारित फसल बीमा योजना को 2 वर्षाें के लिए लागू करने का निर्णय।

कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालयों के अन्तर्गत 20 नए कृषि विज्ञान केंद्रों की स्थापना

मंत्रिपरिषद को प्रदेश में कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालयों के अन्तर्गत 20 नए कृषि विज्ञान केन्द्रों की स्थापना की कार्यवाही के विषय में अवगत कराया गया है। यह केंद्र लखीमपुर-खीरी, हरदोई, आजमगढ़, जौनपुर, बदायूं, सुल्तानपुर, बहराइच, मुरादाबाद, गोण्डा, गाजीपुर, मुजफ्फरनगर, रायबरेली, हापुड़, शामली, संभल , अमेठी, कासगंज, श्रावस्ती, अमरोहा एवं इलाहाबाद में स्थापित किए जा रहे हैं।

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद द्वारा पूर्ण वित्त पोषित कृषि विज्ञान केन्द्रों की स्थापना के लिए राज्य सरकार द्वारा निःशुल्क भूमि उपलब्ध करायी जाती है। कृषि विज्ञान केन्द्रों की स्थापना के लिए 14 जिलों के डीएम द्वारा भूमि की उपलब्धता से अवगत कराया गया है। शेष जिलों में भी भूमि की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए कार्यवाही प्राथमिकता पर की जा रही है।

प्रदेश में वर्तमान में राज्य कृषि विश्वविद्यालयों के अन्तर्गत कुल 49 कृषि विज्ञान केन्द्र स्थापित एवं संचालित हंै। इसके तहत कृषि विश्वविद्यालय कानपुर में 12, फैजाबाद में 17, मेरठ में 13, बांदा में 6 तथा इलाहाबाद में 1 कृषि विज्ञान केन्द्र स्थापित एवं संचालित हैं।

इसके अलावा, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के तहत 5, वेटेनरी विश्वविद्यालय मथुरा के अन्तर्गत 1, बीएचयू वाराणसी के अन्तर्गत 1, अन्य शिक्षण संस्थानों के तहत 2 तथा गैर सरकारी संस्थाओं के तहत 11 कृषि विज्ञान केन्द्र कार्यरत हैं। इस प्रकार, प्रदेश में कुल 69 कृषि विज्ञान केन्द्र स्थापित हैं।

यह भी पढ़ें ... योगी कैबिनेट फैसला: गांवों में 18 घंटे बिजली तो 14 दिन में होगा गन्ना किसानों को भुगतान

यूपी के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने कहा कि पिछली सरकारों में प्रधानमंत्री बीमा फसल योजना को यूपी में ठीक ढंग से लागू नहीं किया गया। लेकिन अब योगी सरकार में पूरा लाभ मिलेगा। वहीँ मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने योगी सरकार को किसानों की सरकार बताया। प्रमुख सचिव रजनीश गुप्ता ने बताया कि हर कृषि विज्ञान केंद्र को 30 एकड़ जमीन दी गई है।

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story