×

शीला की कांग्रेस हाईकमान को सलाह, UP में सीएम फेस पर जल्द लें फैसला

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 17 Jun 2016 7:30 PM GMT

शीला की कांग्रेस हाईकमान को सलाह, UP में सीएम फेस पर जल्द लें फैसला
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्लीः दिल्ली की पूर्व सीएम शीला दीक्षित ने शुक्रवार को कहा कि कांग्रेस हाईकमान चाहेगा तो वह यूपी या पंजाब में कोई भी रोल निभाने को तैयार हैं। उन्होंने हाईकमान को ये सलाह भी दे दी कि यूपी में सीएम फेस के बारे में जल्द फैसला ले, क्योंकि दोनों राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं और पार्टी के पास ज्यादा वक्त नहीं है। बता दें कि ऐसी खबरें छनकर आ रही हैं कि कांग्रेस शीला को यूपी में सीएम कैंडिडेट बना सकती है।

शीला ने क्या कहा?

-शीला दीक्षित ने कहा कि यूपी में सीएम कैंडिडेट घोषित करने पर कांग्रेस जल्द फैसला ले।

-यूपी और पंजाब चुनाव के लिए पार्टी को जल्दी ही रणनीति बनाने की जरूरत है।

-हाईकमान जो काम सौंपेगा, उसके लिए मैं पूरी तरह तैयार हूं।

-यूपी और पंजाब के विधानसभा चुनाव पार्टी के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं।

-सीएम कैंडिडेट के बारे में शीला ने कहा कि हाईकमान जैसा कहेगा, वैसा करेंगी।

शीला दीक्षित का यूपी कनेक्शन

-यूपी से कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे उमाशंकर दीक्षित की बहू हैं।

-उमाशंकर दीक्षित केंद्रीय मंत्री और राज्यपाल भी रह चुके हैं।

-शीला दीक्षित 15 साल तक दिल्ली की सीएम भी रह चुकी हैं।

-यूपी में पार्टी के लिए ब्राह्मण चेहरा भी हैं।

प्रशांत किशोर ने क्या सलाह दी थी?

-पोल स्ट्रैटेजिस्ट प्रशांत किशोर ने पहले राहुल या प्रियंका में से एक को सीएम फेस बनाने को कहा था।

-बाद में उन्होंने किसी ब्राह्मण चेहरे को सीएम कैंडिडेट बनाने की सलाह कांग्रेस को दी।

-इसके बाद ही शीला दीक्षित का नाम यूपी के लिए चलने लगा।

-गुरुवार को शीला ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी मुलाकात की थी।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story