UP इन्वेस्टर्स समिट: ‘अब प्रदेश में शूट होने वाली फिल्मों को मिलेगा अनुदान’

Published by aman Published: February 22, 2018 | 3:39 pm
Modified: February 22, 2018 | 5:12 pm
UP इन्वेस्टर्स समिट: रवि- मल्टीप्लेक्स में भोजपुरी फिल्में हो अनिवार्य

लखनऊ: यूपी इन्वेस्टर्स समिट के आखिरी दिन गुरुवार (22 फरवरी) को ‘मीडिया एंड फिल्म सेशन’ में यूपी सरकार के मंत्री नीलकंठ तिवारी, फिल्म निर्देशक बोनी कपूर, अनुराग कश्यप, रवि किशन, सुभाष घई आदि मौजूद रहे। इस दौरान बताया गया कि सारनाथ में होने वाले लाइट एंड साउंड शो में महानायक अमिताभ बच्चन आवाज देंगे। इसके लिए अमिताभ बच्चन और सीएम योगी की जल्द मुलाकात होगी।

इस सेशन में भोजपुरी अभिनेता रवि किशन के सम्बोधन से शुरुआत हुई। उन्होंने कहा, ‘मैंने यूपी में फिल्म निर्माण की लड़ाई भी लड़ी है। लोग कहते थे कि तुम्हारे यहां तो माफिया बहुत हैं। माहौल अब ठीक हो गया है।’

अब हीरोइन यहां आने से नहीं डरती हैं
भोजपुरी अभिनेता रवि किशन ने यूपी इन्वेस्टर्स समिट की चर्चा करते हुए कहा, कि ‘अब हमारी हिम्मत बढ़ गई है। राज्य में माहौल सही है। अब हीरोइन यहां आने से नहीं डरती हैं। मैं यूपी में फिल्म इंडस्ट्री देखना चाहता हूं। मेरे जैसे करोड़ों रविकिशन निकलकर आएं ये मेरी इच्छा है।’ उन्होंने कहा, सरकार इस मुहिम के लिए अच्छा प्रयास कर रही है।

महाराष्ट्र की तर्ज पर यूपी में भी हो अनिवार्य
रवि किशन ने कहा, ‘मैं यूपी में साल में 4 से 6 फिल्मों की शूटिंग करता हूं। आगे भी यही प्रयास जारी रहेगा। उन्होंने कहा, मंत्री जी से निवेदन है कि जैसे महाराष्ट्र सरकार ने मराठी सिनेमा को मल्टीप्लेक्स में अनिवार्य कर दिया है, अगर यूपी में भोजपुरी फिल्म भी उसी तर्ज पर अनिवार्य हो जाएं तो इन फिल्मों का स्तर भी उठेगा।’

नई फिल्म नीति के तहत यहां शूट होने वाली भारत की किसी भी भाषा में बनने वाली फिल्म और विदेशी फिल्मों को अनुदान मिलेगा। प्रदेश में शूट होने वाली अंग्रेजी फिल्मों को भी अनुदान मिलेगा।

पर्याप्त संख्या में हो सिनेमा हॉल
इसके बाद मशहूर फिल्म निर्माता-निर्देशक बोनी कपूर ने कहा, कि ‘जब तक सिनेमा हॉल नहीं होंगे, तब तक फिल्मों को प्लेटफार्म नहीं मिलेगा। इसलिए हर जिले में पर्याप्त संख्या में सिनेमा हॉल हो।’

छोटी फिल्मों को बड़ी फ़िल्में टेकओवर कर लेती हैं
फिल्म निर्देशक अनुराग कश्यप ने कहा, कि ‘सिनेमा जहां-जहां बदला, वह वहां की स्टेट पॉलिसी की वजह से बदला। हमारा मुख्य सिनेमा हिंदी भाषा में है। लेकिन अभी हमारा हार्डवेयर यानि सिनेमा हॉल पर्याप्त मात्रा में नहीं है। छोटी फिल्मों को बड़ी फ़िल्में टेकओवर कर लेती हैं। फिल्में वही बनेंगी, जो कंज्यूम होंगी। कई छोटी फिल्में इस कारण पिट जाती हैं। इसलिए सिनेमा हॉल बहुत जरूरी हैं।’अनुराग ने आगे कहा, निर्देशक रिस्क लेंगे तभी सिनेमा की स्थिति सुधरेगी।

नई फिल्म नीति पुस्तिका का विमोचन
इस दौरान यूपी सरकार में मंत्री नीलकंठ तिवारी सहित अन्य अतिथियों ने नई फिल्म नीति पुस्तिका का विमोचन किया। साथ ही 250 करोड़ का बीएसके फिल्म्स के निवेश का एमओयू एक्सचेंज हुआ। जयश्री माधव कम्युनिकेशन के 110 करोड़ का भी एमओयू एक्सचेंज हुआ। इसके अलावा बिग बैंग मीडिया 100 करोड़ का निवेश कर रही है। रूपा मेहता ने रूपा पब्लिकेशन से 25 करोड़ का निवेश का एमओयू एक्सचेंज किया। विजन एयर ने 5 करोड़ और एग्मायटी मीडिया ने 1 करोड़ का एमओयू एक्सचेंज किया।