Top

BJP नेता की गजब हरकत: लाशों की गाड़ी के आगे कराया फोटोशूट, मरते लोगों की नहीं चिंता

भाजपा(BJP) उपाध्यक्ष और पूर्व महापौर आलोक शर्मा सोमवार को चाहो-तरफा छाए रहे।

Network

NetworkNewstrack Network NetworkVidushi MishraPublished By Vidushi Mishra

Published on 20 April 2021 4:52 AM GMT

कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा दिन प्रति दिन बढ़ता ही जा रहा है।
X
भाजपा नेता का फोटोशूट(फोटो-सोशल मीडिया)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

भोपाल: एक तरफ मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में कोरोना से हाहाकार मचा हुआ है, दूसरी तरफ यहीं के भाजपा(BJP) उपाध्यक्ष और पूर्व महापौर आलोक शर्मा सोमवार को चाहो-तरफा छाए रहे। महामारी के इस दौर में उन्होंने कुछ ऐसा किया,जिससे वो सोशल मीडिया काफी तेजी से ट्रोल हो रहे। आलोक शर्मा ने जब अपने अस्पतालों को शव वाहनों को सौपा, जो उसके आगे फोटो खिचवाई। जिसके बाद से कांग्रेस ने सवालों का पिटारा खोल दिया है।

असल में राजधानी भोपाल के पूर्व महापौर आलोक शर्मा ने सोमवार को 6 बड़े अस्पतालों को 6 शव वाहन सौंपे। ऐसे में उनके साथ जेपी अस्पताल प्रबंधन के सीनियर डॉक्टर्स और भाजपा के स्थानीय कार्यकर्ता थे। तभी अस्पताल प्रबंधन को शव वाहन सौंपते समय सभी शव वाहनों को एक के पीछे एक खड़ा किया गया और इसके बाद पूर्व महापौर ने उनके सामने खड़े होकर पहले फोटो खिंचवाई, फिर उसे रवाना किया गया।

फूल सेट बनाकर खिचवाई फोटो

ऐसे में फोटो खिंचवाने के दौरान शव वाहन चालक को पीपीई किट पहनाकर पूर्व महापौर के साथ ही खड़ा रखा गया। और फिर इस पूरे आयोजन के वीडियो बाद में सोशल मीडिया में जब ये वायरल हुआ, तो कांग्रेस ने सवाल उठाए।

कांग्रेस ने कहा कि भाजपा नेता शव वाहन के साथ भी फोटोशूट करवाने से बाज नहीं आते। कांग्रेस प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा ने ट्वीट करते हुए लिखा कि 'शर्म करो बेशर्मों? इंदौर में ऑक्सीजन के टैंकर को घंटो रोककर बीजेपी नेताओ ने खूब फोटो बाजी की और अब भोपाल में भाजपा के पूर्व महापौर आलोक शर्मा शव वाहनो के साथ फ़ोटो बाज़ी करते हुए? इंदौर में बन रहे कोविड केयर सेंटर पर भाजपा नेताओं का दौरा? आपदा में भी अवसर-फ़ोटो बाज़ी?

साथ ही कांग्रेस ने आरोप लगाया कि कार्यक्रम के दौरान ही एक पीड़ित व्यक्ति ने शव को श्मशान घाट ले जाने के लिए शव वाहन मांगा तो उसे कुछ देर इंतज़ार करवाया गया। हालाकिं आलोक शर्मा ने कांग्रेस के सभी आरोपों का खंडन किया और बताया कि उनके 'कार्यक्रम के दौरान किसी भी शख्स को शव वाहन ले जाने से नहीं रोका गया बल्कि शव वाहनों को सौंपने के बाद जब एक शख्स आया तो उसे तुरंत शव वाहन उपलब्ध करवाया गया जिसे लेकर वो मेरे सामने ही श्मशान घाट के लिए रवाना हो गया।

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story