Top

ट्रोलर्स के निशाने पर आए CM शिवराज, स्वयंसेवक के निधन पर किया था ट्वीट

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने स्वयंसेवक के निधन पर कुछ ऐसा ट्वीट किया था, जिसे लेकर वो ट्रोल हो गए हैं।

Network

NetworkNewstrack Network NetworkShreyaPublished By Shreya

Published on 28 April 2021 2:30 AM GMT

ट्रोलर्स के निशाने पर आए CM शिवराज, स्वयंसेवक के निधन पर किया था ट्वीट
X

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (फोटो साभार- सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

भोपाल: देश समेत मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में कोरोना वायरस (Corona Virus) की दूसरी लहर का प्रकोप तेजी से बढ़ता जा रहा है। बीते 24 घंटों में यहां पर कोरोना के 13,417 नए मामले सामने आए है। वहीं, इस दौरान 98 मौतें दर्ज की गई हैं। जिसके बाद सक्रिय मामलों की संख्या 94,276 तक जा पहुंचा है।

बढ़ते कोरोना वायरस के मामलों के चलते प्रदेश में बेड की कमी (Shortage of Hospital Beds) भी सामने आ रही है। इस बीच सूबे के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chouhan) ने कुछ ऐसा पोस्ट किया है, जिसके चलते वो ट्रोलर्स के निशाने पर आ गए हैं।

क्या था CM शिवराज का ट्वीट?

दरअसल, उन्होंने ट्वीट करते हुए साझा किया कि कैसे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के एक स्वयंसेवक ने दूसरे मरीज की जान बचाने के लिए अपने प्राण त्याग दिए। उन्होंने लिखा कि

मैं 85 वर्ष का हो चुका हूँ, जीवन देख लिया है, लेकिन अगर उस स्त्री का पति मर गया तो बच्चे अनाथ हो जायेंगे, इसलिए मेरा कर्तव्य है कि मैं उस व्यक्ति के प्राण बचाऊं।'' ऐसा कह कर कोरोना पीड़ित RSS के स्वयंसेवक नारायण जी ने अपना बेड उस मरीज़ को दे दिया।

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा कि दूसरे व्यक्ति की प्राण रक्षा करते हुए श्री नारायण जी तीन दिनों में इस संसार से विदा हो गये। समाज और राष्ट्र के सच्चे सेवक ही ऐसा त्याग कर सकते हैं, आपके पवित्र सेवा भाव को प्रणाम! आप समाज के लिए प्रेरणास्रोत हैं। दिव्यात्मा को विनम्र श्रद्धांजलि। ॐ शांति!

ट्रोलर्स ने कही ये बात

इस ट्वीट के बाद से ही शिवराज सिंह चौहान ट्रोलर्स के निशाने पर आ गए हैं। सोशल मीडिया यूजर्स का कहना है कि अस्पताल में बेड की कमी के चलते स्वयंसेवक को जान गंवानी पड़ी है। अगर अस्पतालों में पुख्ता इंतजाम होते तो ऐसा न हो। कई ने ट्वीट किया कि ये सरकारी की नाकामी है कि अस्पताल में दोनों के लिए बेड नहीं थे।







Shreya

Shreya

Next Story