Top

मध्यप्रदेश के IAS बेटे ने मां के लिए कुर्बान की नौकरी, दिन-रात लगकर की सेवा, फिर भी न बची जान

2013 बैच के मध्यप्रदेश कैडर के आईएएस(IAS) अनूप कुमार ने बीते दिनों अपनी कलेक्टरी का पद ठुकरा दिया था। इस बड़े फैसले के पीछे बहुत बड़ी वजह थी।

Network

NetworkNewstrack Network NetworkVidushi MishraPublished By Vidushi Mishra

Published on 19 May 2021 2:57 AM GMT

Anoop Kumar Singh, IAS (IAS) of Madhya Pradesh cadre of 2013 batch, he has rejected the post of his collector in the past.
X

आईएएस अनूप कुमार सिंह (फोटो-सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

ग्वालियर: अनूप कुमार सिंह जोकि 2013 बैच के मध्यप्रदेश कैडर के आईएएस(IAS) उन्होंने बीते दिनों अपनी कलेक्टरी का पद ठुकरा दिया था। इस बड़े फैसले के पीछे बहुत बड़ी वजह थी। वह वजह उनकी मां की बीमारी थी। ऐसे में अनूप कुमार के लिए बीमार मां की सेवा करना ज्यादा महत्वपूर्ण था। जिसके चलते उन्होंने दिन-रात मां की सेवा की भी, लेकिन 35 दिन तक ग्वालियर के अस्पताल में जिंदगी की जंग लड़ते-लड़ते उनकी मां रामदेवी का मंगलवार को निधन हो गया।

दरअसल अनूप कुमार सिंह जबलपुर में अपर कलेक्टर के पद पर पदस्थ हैं। बीते दिनों सात मई को मध्य प्रदेश शासन ने उन्हें दमोह जिले का कलेक्टर पदस्थ करने का आदेश जारी किया था, लेकिन बीमार मां की सेवा के लिए अनूप सिंह ने पहली बार मिलने जा रही कलेक्टरी को अस्वीकार करते हुए ज्वाइन करने में असमर्थता जाहिर की थी। ऐसे में शासन ने उनकी स्थिति जानने के बाद आदेश में बदलाव कर उन्हें जबलपुर में ही पदस्थ रखा था।

सारे काम छोड़ लगे मां की सेवा में

आईएएस अनूप सिंह मूल रूप से उत्तर प्रदेश के कानपुर के रहने वाले हैं। वैसे उनका इटावा में भी घर है। इस बीच बीमारी के दौरान उनकी मां इटावा में ही थीं। अनूप के परिवार में पिता और तीन बहनें हैं। उनकी एक बहन की शादी हो चुकी है। बता दें, फरवरी, 2019 में अनूप कुमार सिंह ग्वालियर में बतौर अपर कलेक्टर पदस्थ हुए और 14 जून, 2020 तक रहे।

अनूप की मां के बारे में बताया गया कि 13 अप्रैल, 2021 को उनकी 67 वर्षीय मां रामदेवी की तबीयत बिगड़ी, तो ग्वालियर के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। फिर पहले कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई, उसके बाद में पाजिटिव आने के बाद फिर एक बार निगेटिव हो गई थी।

कानपुर में हुआ अंतिम संस्कार

बीते नौ दिनों से अनूप कुमार सिंह की मां वेंटिलेटर पर थीं और डायलिसिस चल रहा था। मां के लिए डाॅक्टरों ने पूरा प्रयास किया, लेकिन मंगलवार सुबह उनका निधन हो गया। अनूप सिंह सारे काम छोड़कर मां की सेवा में लगे रहे और पूरे प्रयास किए। अंत में निधन के बाद उनकी मां के शव को कानपुर ले जाया गया। ग्वालियर निगमायुक्त शिवम वर्मा भी अंतिम संस्कार में कानपुर पहुंचे।

बता दें, आईएएस अनूप कुमार सिंह इस समय मध्य प्रदेश के जबलपुर में बतौर अपर कलेक्टर तैनात हैं। इससे पहले अनूप सिंह जबलपुर नगर निगम में कमिश्नर भी रह चुके हैं।

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story