MP Board Exam 2023: 10वीं का एग्जाम देगी दिव्यांग गुरदीप, बोलने-सुनने और देखने में है अक्षम

MP Board Exam 2023: पढ़ाई को लेकर गजब की ललक रखने वाली 32 साल की यह युवती न तो बोल सकती है न सुन सकती है और न देख सकती है, लेकिन एक आम विद्यार्थी की तरह पढ़-लिख कर अच्छा रोजगार हासिल करने का उसका सपना है।

Durgesh Sharma
Written By Durgesh Sharma
Published on: 28 Feb 2023 12:58 PM GMT
MP Board Exam 2023
X

MP Board Exam 2023 (Pic: Social Media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

MP Board Exam 2023: मध्यप्रदेश (एमपी) में एक मार्च से शुरू होने वाली दसवीं की बोर्ड परीक्षा में शामिल हो रहे हजारों उम्मीदवारों में गुरदीप कौर वासु सबसे खास हैं। पढ़ाई को लेकर गजब की ललक रखने वाली 32 साल की यह युवती न तो बोल सकती है न सुन सकती है और न देख सकती है, लेकिन एक आम विद्यार्थी की तरह पढ़-लिख कर अच्छा रोजगार हासिल करने का उसका सपना है। जिला शिक्षा अधिकारी (डीईओ) मंगलेश कुमार व्यास ने कहा कि अलग-अलग दिव्यांगता से प्रभावित गुरदीप कौर वासु (32) ने दसवीं की बोर्ड परीक्षा देने के लिए स्वाध्यायी उम्मीदवार के तौर पर आवेदन किया है।

उन्होंने बताया, 'मेरी जानकारी के मुताबिक, यह राज्य के माध्यमिक शिक्षा मंडल के इतिहास का पहला मामला हैं, जब बोल, सुन और देख नहीं पाने वाला कोई उम्मीदवार हाईस्कूल परीक्षा में बैठेगा। '

इस तरीके से विषयों को समझती है गुरदीप

शहर में दिव्यांगों के लिए काम करने वाली गैर सरकारी संस्था (एनजीओ) आनंद सर्विस सोसायटी ने विशेष कक्षाएं लेकर गुरदीप को परीक्षा के लिए तैयार किया है। संस्था की निदेशक और सांकेतिक भाषा की जानकार मोनिका पुरोहित ने कहा कि 'गुरदीप किसी व्यक्ति के हाथों और उंगलियों को दबा कर उससे संकेतों की भाषा में संवाद करती हैं। हमें भी गुरदीप तक अपनी बात पहुंचाने के लिए इसी भाषा के मुताबिक उनके हाथों और अंगुलियों को दबाना होता है।'

उपलब्ध होगी विशेष सुविधा – जिला शिक्षा अधिकारी

जिला शिक्षा अधिकारी व्यास ने बताया, 'गुरदीप होनहार छात्रा हैं और उन्होंने दसवीं की परीक्षा के लिए काफी मेहनत की है। ऐसे में हम चाहेंगे कि उन्होंने पढ़ाई के वक्त जो कुछ भी सीखा है, वह परीक्षा के दौरान उनकी उत्तरपुस्तिका में दर्ज हो सके। गुरदीप की विशेष स्थिति को देखते हुए उन्हें नियमों के मुताबिक परीक्षा के दौरान सहायक लेखक मुहैया कराया जाएगा जो सांकेतिक भाषा का जानकार होगा।

पुरोहित के जरिए गुरदीप से सवाल किया गया कि वह पढ़-लिखकर क्या बनना चाहती हैं, तो उन्होंने अपनी खास जुबान में जवाब दिया कि पढ़ाई पूरी करने के बाद वह किसी दफ्तर में कंप्यूटर पर काम से जुड़ा रोजगार हासिल करना चाहती हैं। पुरोहित ने बताया कि गुरदीप ने दसवीं की परीक्षा के लिए सामाजिक विज्ञान, अंग्रेजी, चित्रकला और विज्ञान विषय चुने हैं।

Durgesh Sharma

Durgesh Sharma

Next Story