Top

शिवराज के मंत्री ने डाॅक्टरों को दी शर्मनाक सलाह, मरीज मरे तो...

मंत्री ने कहा मरीजों को बोलो घर जाओ वरना मरोगे तो इसकी गारंटी नहीं है। साथ ही डॉक्टरों को मरीजों से न मिलने की सलाह दी है।

Network

NetworkReport By NetworkShreyaPublished By Shreya

Published on 17 April 2021 10:20 AM GMT

एमपी के मंत्री ने दिया विवादित बयान, कहा- मरीज मरे तो गारंटी नहीं
X

Gopal Bhargava (File Photo- Social Media)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

भोपाल: देश में कोरोना वायरस (Corona Virus) की रफ्तार दिन ब दिन बेकाबू होती जा रही है। पहले की तुलना में संक्रमण और भी खतरनाक होता जा रहा है। ऐसे में रिकॉर्ड तोड़ मामले (Covid-19 Cases) भी हर दिन सामने आ रहे हैं। जिसके चलते अस्पतालों में बेड (Covid Bed) की कमी होती जा रही है। इस बीच मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के लोक निर्माण मंत्री का विवादित बयान सामने आया है।

राज्य के लोक निर्माण मंत्री गोपाल भार्गव ने एक ऐसा उटपटांग बयान दिया है, जिसके चलते सोशल मीडिया पर उनकी काफी आलोचना हो रही है। दरअसल, मंत्री राज्य के नरसिंहपुर जिला अस्पताल में पहुंचे थे, इस दौरान डॉक्टरों ने वहां की समस्याएं उन्हें बताईं। डॉक्टरों ने कहा कि कोरोना मरीज ठीक होने के बाद भी यहां से जाना नहीं चाह रहे हैं, ऐसे में नए कोरोना मरीज कहां भर्ती किए जाएंगे। इससे ऑक्सीजन सप्लाई भी प्रभावित हो रही है।

Gopal Bhargava (Photo- Twitter)

मंत्री का विवादित बयान

इस समस्या को सुनने के बाद मंत्री ने बयान दिया कि मरीजों को बोलो कि घर जाओ वरना मरोगे तो इसकी गारंटी नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने डॉक्टरों को ये तक सलाह दी कि वो मरीजों से मिलना ही बंद कर दें। अब गोपाल भार्गव का ये बयान सोशल मीडिया पर काफी सुर्खियां बटोर रहा है और इसी के चलते वो आलोचना का शिकार हो गए हैं।

इसलिए घर नहीं जाना चाह रहे मरीज

डॉक्टरों का कहना है कि यहां पर पूरे जिले से मरीज आ रहे हैं। सरकारी अस्पताल होने की वजह से किसी को मना नहीं कर सकते। लेकिन जो मरीज ठीक हो जा रहे हैं वो घर नहीं जाना चाह रहे हैं। उन्हें लगता है कि घर जाकर ऑक्सीजन स्तर कम हो जाएगा। ऐसे में वे घर नहीं जाना चाहते। लेकिन जब तक पुराने मरीज घर नहीं जाते तब तक नए मरीज को कैसे भर्ती करेंगे। वहीं ऑक्सीजन की खपत भी ज्यादा हो रही है। डॉक्टर ने बताया कि कल 20 मरीज डिस्चार्ज हुए थे, जिनमें से केवल एक घर गया।

Shreya

Shreya

Next Story