×

Ujjain Mahakal Mandir: जब महाकाल मंदिर में पहुंचे कैलाश विजयवर्गीय, पंडे-पुजारियों ने किया हंगामा, जानें क्या है इसके पीछे की वजह

Ujjain Mahakal Mandir: उज्जैन में स्थित महाकाल मंदिर में आज भाजपा के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के कारण जोरदार हंगामा हुआ। इस हंगामे के कारण महाकाल की भस्म आरती भी विलंब में शुरू हुई।

Network

NetworkNewstrack NetworkChitra SinghPublished By Chitra Singh

Published on 13 Aug 2021 6:31 AM GMT

Mahakal Mandir-Kailash Vijayvargiya
X

महाकाल मंदिर- कैलाश विजयवर्गीय (डिजाइन फोटो- सोशल मीडिया)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Ujjain Mahakal Mandir: उज्जैन में स्थित महाकाल मंदिर में आज भाजपा के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय (Kailash Vijayvargiya) के कारण जोरदार हंगामा हुआ। इस हंगामे के कारण महाकाल की भस्म आरती (Bhasm Aarti) भी विलंब में शुरू हुई। खबर है कि आज सुबह करीब 3 बजे कैलाश विजयवर्गीय अपने अपने बेटे और एक विधायक के साथ महाकाल के मंदिर में जल चढ़ाने के लिए पहुंचे थे। उनके आने के कारण मंदिर के मुख्य पुजारी को मंदिर में प्रवेश नहीं करने दिया गया, जिसके कारण पुजारी ने मंदिर परिसर में जमकर हंगामा किया। वहीं कैलाश विजयवर्गीय, उनके बेटे और विधायक मीडिया से बचते बचाते वहां से निकल गए।

मिली जानकारी के अनुसार, शुक्रवार (13 अगस्त) को सुबह 3 बजे भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय (Kailash Vijayvargiya), उनके बेटे आकाश विजयवर्गीय (Akash Vijayvargiya) और विधायक रमेश मेंदोला (Ramesh Mendola) महाकाल को जल चढ़ाने के लिए महाकाल के मंदिर पहुंचे थे। उनके आने से पहले भी मंदिर के मुख्य पुजारी को गेट नंबर चार पर रोक दिया। वहां से वे जैसे-तैसे सूर्यमुखी तक पहुंचे, जहां उन्हें मंदिर में प्रवेश नहीं करने दिया। महाकाल के आरती में हो रहे विलंब के कारण मुख्य पुजारी समेत अन्य पंडे-पुजारियों ने हंगामा कर लिया। वहीं थोड़ी देर के बाद उन्होंने मंदिर में कैलाश विजयवर्गीय समेत अन्य दो लोगों को मंदिर में प्रवेश करते हुए देखा गया, जिसके बाद हंगामा और भी बढ़ गया।

बताया जा रहा है कि इस हंगामे के बीच पुजारी अजय गुरु (Ajay Guru) ने मंदिर में मिले प्रवेश पास को फेंक दिया और वहीं हंगामा शुरू कर दिया। इसी हंगामे के बीच जब मीडिया कैलाश विजयवर्गीय समेत अन्य दो लोगों से बात करना चाही तो वहां से चुपचाप बाहर निकल पड़ें। इस दौरान रमेश मेंदोला अपना मुंह भी छिपाते हुए नजर आए। इस हंगामे के कारण महाकाल की भस्म आरती आधे घंटा देर से शुरू हुई।

सावन के हर सोमवार को आते हैं विजयवर्गीय

बता दें कि कोरोना के कारण प्रशासन ने मंदिर में सिर्फ पंडे-पुजारियों को जाने की अनुमति दी है। वहीं इस घटना के बाद मंदिर के सभी पंडे-पुजारियों में रोष देखने को मिल रहा है, लेकिन इस मसले पर मंदिर के अधिकारी और प्रशासन अपनी चुप्पी साध रखी है। खबर तो यह भी है कि कैलाश विजयवर्गीय सावन के हर सोमवार (Sawan Ka Somwar ) को महाकाल को जल अर्पित करने आते हैं।

मुख्य पुजारी करेंगे शिकायत

बताते चलें कि इस मामले को लेकर मुख्य पुजारी अजय गुरू ने कहा है कि " हम इसकी शिकायत करेगें। जब उन्हें प्रवेश के लिए पास दिया गया है, तो मंदिर के पंड़े-पुजारियों को अलग-अलग द्वार पर क्यों रोका जा रहा है। इसकी शिकायत होगी।"

Chitra Singh

Chitra Singh

Next Story