×

ED को मिली Nawab Malik की 8 दिनों की कस्टडी, मलिक के समर्थन में उतरी शिवसेना, NCP, मंत्री पद पर काबिज रहेंगे मलिक

मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े मामलों को लेकर प्रवर्तन निदेशालय ने आज एनसीपी नेता नवाब मलिक को गिरफ्तार कर लिया है। जिसके बाद नवाब मालिक को स्पेशल PMLA कोर्ट द्वारा तीन मार्च तक ईडी (ED) की कस्टडी में भेज दिया गया है।

Bishwa Maurya
Updated on: 2022-02-23T21:36:15+05:30
Nawab Malik
X

संजय राउत - नवाब मलिक (तस्वीर साभार : सोशल मीडिया)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

मुंबई। महाराष्ट्र की उध्दव ठाकरे (Uddhav Thackeray) सरकार में कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक (Nawab Malik) की कस्टडी प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) को मिल गई है। उन्हें तीन मार्च तक ईडी (ED) की कस्टडी में भेज दिया गया है। बता दें कि उन्हें जमीन खरीद के एक मामले में अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम (Dawood Ibrahim) के गैंग से तार जुड़ने के चलते पूछताछ के लिए आज सुबह ईडी दफ्तर लाया गया था। जहां 8 घंटे चली लंबी पूछताछ के बाद प्रवर्तन निदेशालय ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। उन पर धनशोधन का आरोप लगा है। ईडी ने उन्हें स्पेशल PMLA कोर्ट में पेश कर 14 दिन का रिमांड मांगा थी, जिस पर दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद कोर्ट ने उन्हें कस्टडी में भेज दिया है।

उद्धव ठाकरे सरकार में कैबिनेट मंत्री और कद्दावर एनसीपी (NCP) नेता नवाब मलिक की गिरफ्तारी ने महाराष्ट्र की राजनीति में भूचाल ला दिया है। इस मुद्दे पर महाविकास अघाड़ी के सभी दल नवाब मलिक के पक्ष में खड़े हो गए हैं। महाराष्ट्र सरकार में अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री नवाब मलिक के खिलाफ जहां विपक्षी बीजेपी (BJP) ने मोर्चा खोल दिया है। वहीं एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार (Sharad Pawar) ने इस महत्वपूर्ण घटनाक्रम के बाद मुख्यमंत्री उध्दव ठाकरे से मुलाकात की है। महाराष्ट्र सीएम के आधिकारिक आवास पर हुई बैठक में दोनों नेताओं के अलावा महाराष्ट्र के गृहमंत्री दिलीप वलसे पाटिल (Dilip Walse Patil) भी शामिल थे।

नवाब मलिक का नहीं होगा इस्तीफा

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार, मुख्यमंत्री उध्दव ठाकरे और गृहमंत्री दिलीप वलसे पाटिल के बीच हुए बैठक में अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री नवाब मलिक का इस्तीफा नहीं लेने का फैसला हुआ है। दोनों नेताओं ने केंद्र के खिलाफ अगला कदम उठाने पर चर्चा की है। महाराष्ट्र सरकार में एनसीपी कोटे से मंत्री और वरिष्ठ नेता छग्गन भुजबल (Chhaggan Bhujbal) ने भी नवाब मलिक के इस्तीफे को लेकर बड़ा बयान दिया है। भुजबल ने इस्तीफे की अटकलों को खारिज करते हुए कहा कि मलिक के इस्तीफे का सवाल ही नहीं उठता है। मंत्रालय में विरोध दर्ज कराया जाएगा।

शिवसेना उतरी समर्थऩ में

महाराष्ट्र की महाविकास अघाड़ी सरकार का नेतृत्व कर रही शिवसेना (Shiv Sena) ने भी खुलकर कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक का समर्थन किया है। शिवसेना सांसद और प्रवक्ता संजय राउत (Sanjay Raut) ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि नवाब मलिक इस्तीफा न दें। लड़ते रहें और जीतें। कंस और रावण भी मारे गए। इसे ही हिंदुत्व कहते हैं। दरअसल शिवसेना सांसद खुद ईडी के रडार पर आ चुके हैं। उनके खिलाफ हुई कार्रवाई के बाद वो केंद्र सरकार पर कई गंभीर आरोप लगा चुके हैं। उन्होंने एकबार यह कहकर सनसनी मचा दी थी कि ईडी (ED) ने उन्हें महाराष्ट्र सरकार को गिराने में मदद करने के लिए कहा था। अगर वो ऐसा नहीं करते हैं तो उनके खिलाफ ऐसे ही कार्रवाई जारी रहेगी।

बता दें कि नवाब मलिक की गिरफ्तारी के बाद एकबार फिर बीजेपी विरोधी दल लामबंद होने लगे हैं। टीएमसी (TMC) चीफ और वेस्ट बंगाल की सीएम ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने भी एनसीपी मुखिया शरद पवार को फोन कर इस मामले में समर्थन देने का ऐलान किया है। दरअसल नवाब मलिक शरद पवार के बेहद करीब माने जाते हैं। ऐसे में उनके खिलाफ हुई इस कार्रवाई के बाद देश की सियासत में आने वाले समय में उबाल आना तय माना जा रहा है।

Bishwa Maurya

Bishwa Maurya

Next Story