×

Manipur Election 2022: जानिए मणिपुर के चुनाव का हाल, किसकी लहर, कौन रह जायेगा सत्ता से बेदखल

Manipur Election 2022: भारत का मनी कहे जाने वाले मणिपुर में आगामी विधानसभा चुनाव के लिए राजनीतिक पूरा जोर लगा रही है। वहीं राज्य की सत्ता पर ज्यादातर का काबिज रही कांग्रेस पार्टी के पास अभी नेतृत्व का ही संकट नज़र आ रहा।

Bishwa Maurya

Report Bishwa Maurya

Published on 15 Jan 2022 1:03 PM GMT

Manipur Election 2022
X

मणिपुर मानचित्र (PHOTO - Socialmedia)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Manipur Election 2022: अगले महीने से देश के पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव का शुरुआत होना है जिसमें उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, गोवा और मणिपुर शामिल है। चुनाव आयोग ने मणिपुर में चुनाव दो चरण में करवाने का फैसला किया है। पहले चरण के लिए मतदान 27 फरवरी को होगा। वहीं दूसरे और आखिरी चरण के लिए 3 मार्च को मतदाता मतदान करेंगे। बात अगर पांचों राज्यों की करें तो इस बार विधानसभा चुनाव 10 फरवरी से शुरू होकर 7 मार्च को खत्म हो रहा है। वही पांचो चुनावी राज्यों के चुनाव परिणाम 10 मार्च को घोषित होंगे।

मणिपुर के अगर चुनावी माहौल की बात करें तो इस वक्त राज्य में बीजेपी सरकार के खिलाफ हवा नजर आ रही है। तो वहीं कांग्रेस पार्टी की तरफ मणिपुर के लिए कोई नेतृत्व नहीं दिख रहा है। फुटबॉल खेल के लिए प्रसिद्ध भारत का मणि कहे जाने वाला मणिपुर सियासी नजरिए से भी बहुत खास है। राज्य में कुल 60 विधानसभा सीटें हैं। वहीं वर्तमान में राज्य में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है और एन बीरेन सिंह मणिपुर के मुख्यमंत्री हैं। बीरेन सिंह अपने दौर के एक अच्छे फुटबॉल के खिलाड़ी भी रह चुके हैं लेकिन अब देखना यह होगा कि इस बार के चुनाव में वह अपना सियासी खेल बेहतर दिखा पाते हैं या नहीं।

मणिपुर का राजनीतिक इतिहास

मणिपुर के राजनीतिक इतिहास में यहां की सत्ता पर ज्यादातर कांग्रेस का ही दबदबा रहा है बात अगर 1974 के विधानसभा चुनाव की करें तो उस वक्त मणिपुर पार्टी के मोहम्मद अलीमुद्दीन राज्यों के मुख्यमंत्री बने थे। लेकिन 1980 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने जीत हासिल की और राजकुमार सुरेंद्र सिंह को मुख्यमंत्री बनाया गया। 1980 विधानसभा चुनाव के बाद से 2017 तक मणिपुर पर कांग्रेस पार्टी का ही सत्ता रहा है। लेकिन 2017 के विधानसभा चुनाव के कांग्रेस का यह विजय रथ भारतीय जनता पार्टी ने राज्य के कुछ छोटे दलों के साथ मिलकर रोक दिया।

बात अगर पिछले चुनाव की बात करें तो 2017 विधानसभा चुनाव में मणिपुर में भारतीय जनता पार्टी को कुल 60 में से केवल 21 सीटों पर ही जीत हासिल हुई थी वही कांग्रेस पार्टी को कुल 60 में से 28 विधानसभा सीटों पर विजय प्राप्त हुआ था। लेकिन 21 सीटों पर सफलता पाने वाली भारतीय जनता पार्टी ने राज्य के स्थानीय दलों से गठबंधन कर सरकार बना लिया। वही 28 सीटें जीतने वाली कांग्रेस पार्टी को सत्ता से बाहर रहना पड़ा। इस वक्त राज्य में भारतीय जनता पार्टी का नेशनल पीपल्स पार्टी नगा पीपल्स फ्रंट और लोजपा के साथ गठबंधन वाली सरकार है।

2017 के विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के और कांग्रेस के अलावा राज्य में नेशनल पीपल्स पार्टी को 4 तथा पीपल्स फ्रंट पार्टी को भी 4 विधानसभा सीटों पर जीत हासिल हुई थी। वही टीएमसी तथा लोजपा ने एक एक सीट पर जीत हासिल की थी।

मणिपुर में महिलाएं हैं अहम फैक्टर

मणिपुर में महिलाओं का स्थान काफी ऊपर माना जाता है मणिपुर से ही मशहूर बॉक्सिंग चैंपियन मैरीकॉम जैसी खिलाड़ी है। मणिपुर का इंफाल क्षेत्र राज्य का एक बहुत अहम हिस्सा माना जाता है तथा इस क्षेत्र में महिलाओं का असर दिखता है इंफाल के 35 सौ से अधिक दुकान है महिलाएं संचालित करती हैं। इन्हीं सब बातों को ध्यान में रखते हुए भारतीय जनता पार्टी ने हाल ही में शारदा देवी को मणिपुर बीजेपी का कमान सौंप दिया।

Bishwa Maurya

Bishwa Maurya

Next Story