पुल 1981 में बना था और तभी से बीएमसी के इंजीनियरों के जिम्मे था