Top

UAE ने हिंदी को कोर्ट की तीसरी आधिकारिक भाषा बनाया, और हम बोलने में शर्माते हैं

संयुक्त अरब अमीरात के अबू धाबी में अरबी और अंग्रेजी के बाद हिंदी को अपनी सभी अदालतों में तीसरी आधिकारिक भाषा का दर्जा दे दिया है। आपको बता दें, अबू धाबी न्याय विभाग ने कहा कि उसने श्रम मामलों में अरबी और अंग्रेजी के साथ हिंदी भाषा को शामिल करके अदालतों के समक्ष दावों के बयान के लिए भाषा के माध्यम का विस्तार कर दिया है।

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 10 Feb 2019 10:57 AM GMT

UAE ने हिंदी को कोर्ट की तीसरी आधिकारिक भाषा बनाया, और हम बोलने में शर्माते हैं
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

दुबई : संयुक्त अरब अमीरात के अबू धाबी में अरबी और अंग्रेजी के बाद हिंदी को अपनी सभी अदालतों में तीसरी आधिकारिक भाषा का दर्जा दे दिया है। आपको बता दें, अबू धाबी न्याय विभाग ने कहा कि उसने श्रम मामलों में अरबी और अंग्रेजी के साथ हिंदी भाषा को शामिल करके अदालतों के समक्ष दावों के बयान के लिए भाषा के माध्यम का विस्तार कर दिया है।

ये भी देखें :प्रियंका गांधी पर भाजपा एमपी का बयान, दिल्ली में जीन्स टॉप व क्षेत्र में साड़ी सिंदूर

गौरतलब है कि संयुक्त अरब अमीरात में भारतीय लोगों की संख्या 26 लाख है जो देश की कुल आबादी का 30 फीसदी है।

ये भी देखें :तीसरे शाही स्नान में कुंभ पहुंचे मनोज तिवारी, लगाई आस्था की डुबकी

अवर सचिव युसूफ सईद अल अब्री ने कहा कि दावा शीट, शिकायतों और अनुरोधों के लिए बहुभाषा लागू करने का मकसद प्लान 2021 की तर्ज पर न्यायिक सेवाओं को बढ़ावा देना और मुकदमे की प्रक्रिया में पारदर्शिता बढ़ाना है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story