Top

CM अखिलेश-गवर्नर ने पूर्व PM चरण सिंह की प्रतिमा पर फूल चढ़ाकर दी श्रद्धां​जलि

By

Published on 23 Dec 2016 8:19 AM GMT

CM अखिलेश-गवर्नर ने पूर्व PM चरण सिंह की प्रतिमा पर फूल चढ़ाकर दी श्रद्धां​जलि
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: यूपी के सीएम अखिलेश यादव और गवर्नर राम नाईक ने पूर्व पीएम चौधरी चरण सिंह की जयंती पर विधानसभा स्थित उनकी मूर्ति पर पुष्प श्रद्धां​जलि अर्पित की। 1902 में यूपी के हापुड़ जिले में उनका जन्‍म हुआ था। यूपी ही नहीं पूरे देश में उनको याद किया जा रहा है। सपा प्रदेश अध्‍यक्ष शिवपाल यादव ने भी श्रृद्यांंजलि अर्पित की है ।

कौन हैं चौधरी चरण सिंह

भारत की आजादी के बाद देश की राजनीति में चौधरी चरण सिंह की छवि एक कद्दावर किसान नेता के रूप में हुई। वह एक समाजसेवी और स्वतंत्रता सेनानी थी थे। उन्हें ‘जाट नेता’ के तौर पर जाना गया। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में आज भी उनके नाम पर राजनीति की जाती है।

कहां हुआ था जन्म

चौधरी चरण सिंह ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश के हापुड़ जिले के नूरपुर गांव में एक जाट परिवार में 1902 में जन्म लिया। वह देश के चौथे प्रधानमंत्री भी बने। लेकिन वह इस पद पर महज़ पांच महीने और 17 दिन ही रह सके। वह अकेले ऐसे पीएम हैं जिन्होंने एक दिन भी लोकसभा का सामना नहीं किया।

स्वतंत्रता आंदोलन से राजनीति में आने वाले चौधरी चरण सिंह देश के पहले पीएम जवाहर लाल नेहरू के विरोध के कारण जाने जाते थे। श्री सिंह ने किसानों के लिए लंबी लड़ाई लड़ी। उन्हें आज भी एक किसान नेता के तौर पर जाना जाता है। 1967 तक कांग्रेस में रहने के बाद उन्होंने अपनी अलग राजनीतिक पार्टी बना ली थी।

चौधरी चरण सिंह का 1987 में निधन हो गया। दिल्ली में यमुना के किनारे उनकी समाधि है जिसे किसान घाट के तौर पर जाना जाता है। श्री सिंह के निधन के बाद लोक दल का नया अध्यक्ष उनके बेटे अजित सिंह को बनाया गया। इसी लोक दल के सहारे उनके बेटे आज राजनीति के मैदान में हैं।

लखनऊ का अमौसी एयरपोर्ट को भी चौधरी चरण सिंह अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट कहा जाता है। मेरठ में भी उनके नाम से चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय बना है।चौधरी चरण सिंह की राजनीतिक विरासत केवल परिवार तक सिमट कर रह गई। पश्चिमी यूपी के छह जिलों में जाटों की खासी तादाद है और राजनीतिक नफा नुकसान के लिए चरण सिंह का नाम लिया जाता है।

Next Story