×

PUNJAB: देश की पहली हाई स्पीड ट्रेन तैयार,फाइव स्टार जैसी होगी सुविधा

Newstrack
Published on 7 Feb 2016 8:40 AM GMT
PUNJAB: देश की पहली हाई स्पीड ट्रेन तैयार,फाइव स्टार जैसी होगी सुविधा
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

कपूरथला: भारतीय रेल की ओर से लोगों को जल्द ही हाइ स्पीड ट्रेन में सफर का रोमांच मिलेने वाला है। यह यह हाइ स्पीड ट्रेन अनब्रेकेबल होगी। ट्रेन शाही सुविधाअों से युक्त होगी और हवाई यात्रा का अहसास देगी।

ट्रेन में क्या है खास :

-कपूरथला के रेल डिब्बा कारखाना में तैयार हो रहा है कोच

-220 किलोमीटर प्रति घंटा की गति से दौड़ने ट्रेन

-कोच को चीते के रंगों से सजाया गया है।

-डार्क ब्राउन, यैलो व ग्रे कलर के इन डिब्बों के दरवाजे मेट्रो रेल जैसे पूरी तरह ऑटोमेटिक होंगे।

-पांच किलोमीटर की स्पीड पकड़ते ही दरवाजे खुद ब खुद बंद हो जाएंगे।

पीएम ने रेलवे बोर्ड को दी थी सलाह

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सलाह पर रेलवे बोर्ड व आरडीएसओ द्वारा कपूरथला के रेल डिब्बा कारखाना में पिछले साल 200 किलोमीटर की स्पीड से दौडऩे वाले कोच तैयार करने को कहा गया था। लेकिन आरसीएफ के इंजीनियरों ने इससे भी तीव्र 220 किलोमीटर तक दौडऩे वाले कोच तैयार कर दिए हैं।

हर सीट के पीछे लगे होंगे एलसीडी टीवी और कॉलबेल

पहले चरण में तैयार किए गए दो एक्सिक्यूटिव चेयर कार और दो एसी चेयर कार कोचों में हर सीट के पीछे मनोरंजन के लिए एलसीडी टीवी लगे होंगे। यात्री अपनी सीट पर बैठ कर अपनी मनपसंद कार्यक्रम देख पाएंगे। तमाम सीटों और कोच में एलईडी लाइट की व्यवस्था की गई है। पूरी ट्रेन हाई स्पीड इंटरनेट वाले वाइफाई सिस्टम से युक्त होगी। इनके अलावा हर सीट पर काॅलबेल भी लगी होगी। इससे यात्री अपने भोजन अादि का आर्डर दे सकेंगे।

पूरी ट्रेन में हाेगा जीपीएस सिस्टम

यह पूरी ट्रेन जीपीएस सिस्टम से भी लैस होगी। एलईडी स्क्रीन पर मेट्रो रेल की तरह स्टेशनों का विवरण व अन्य जानकारियां डिस्पले होती रहेंगी। जर्मन तकनीक वाले एलएचबी को विकसित कर इनमें आधुनिक इलेक्ट्रो पीनोमैटिक ब्रेकिंग सिस्टम (एयर ब्रेक सिस्टम की जगह वायु व बिजली से चलने वाला ब्रेकिंग सिस्टम) लगाया गया है।

धुंआ हुआ तो रुक जाएगी ट्रेन

इन कोचों में आधुनिक स्मोकिंग सिस्टम भी लगा होगा। अगर गाड़ी में कहीं हल्का सा भी धुआं हुआ तो सायरन बजने लगेगा और गाड़ी रुक जाएगी। हवाई जहाज की तरह इस ट्रेन में भी वैक्यूम टाइलट लगी है। वैक्यूम टॉयलेट वाली यह देश की पहली ट्रेन होगी। यह टायलट किसी फाइव स्टार होटल के शौचालय से कम नहीं होगी। इसमें सेंसर युक्त आधुनिक नल, हैंड ड्राइयर व सोप डिस्पेंसर लगा है। सेंसर से ही यह टूंटी चलेगी और बंद होगी।

फाइव स्टार वाली होगी सुविधा

इस संबंध में आरसीएफ के जनरल मैनेजर आरपी निबारिया का कहना है कि इनमें 14 एसी चेयरकार, तीन एग्जीक्यूटिव चेयरकार, तीन पावर कार शामिल थे। निबारिया ने बताया कि इनमें से दो एग्जीक्यूटिव चेयरकार व दो एसीसी चेयरकार कोच लगभग तैयार हो चुके हैं। मार्च तक यह चारों कोच पूरी तरह तैयार कर रेलवे बोर्ड को सौंप दिए जाएंगे।

Newstrack

Newstrack

Next Story