करूणानिधि पर पलानीस्वामी की टिप्पणी अशोभनीय : द्रमुक

द्रमुक ने मंगलवार को तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी की उस टिप्पणी के लिए आलोचना की कि द्रमुक के दिवंगत अध्यक्ष एम. करूणानिधि को एम के स्टालिन ने ‘‘नजरबंद’’ कर रखा था। पार्टी ने कहा कि इस तरह की टिप्पणी मुख्यमंत्री को शोभा नहीं देती।

करूणानिधि पर पलानीस्वामी की टिप्पणी अशोभनीय : द्रमुक

सलेम (तमिलनाडु): द्रमुक ने मंगलवार को तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी की उस टिप्पणी के लिए आलोचना की कि द्रमुक के दिवंगत अध्यक्ष एम. करूणानिधि को एम के स्टालिन ने ‘‘नजरबंद’’ कर रखा था। पार्टी ने कहा कि इस तरह की टिप्पणी मुख्यमंत्री को शोभा नहीं देती।

यह भी पढ़ें…..दंतेवाड़ा में नक्सलियों ने उड़ाई बुलेटप्रूफ कार, बीजेपी एमएलए की मौत-5 जवान शहीद

द्रमुक के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा के सदस्य त्रिची शिवा ने कहा कि पलानीस्वामी का बयान ‘‘सीमा रेखा के उल्लंघन’’ के बराबर है और उन्होंने पूछा कि दिवंगत मुख्यमंत्री जे. जयललिता का विदेश में उपचार क्यों नहीं कराया गया? उन्होंने कहा कि स्टालिन कड़ी मेहनत से पार्टी प्रमुख बने हैं और पार्टी ने उन्हें स्वीकार किया है।

यह भी पढ़ें…..स्मृति के बिगड़े बोल: ग़रीब के 1 महीने के खर्च की कीमत बताई इस नेता के जूते के बराबर

उन्होंने कहा, ‘‘ऐसे व्यक्ति की आलोचना की जा सकती है जो लोकतांत्रिक रूप से स्वीकार्य हो। स्टालिन को अध्यक्ष बनने के लिए संघर्ष करने की जरूरत नहीं पड़ी… कड़ी मेहनत के कारण वह पार्टी प्रमुख बने हैं।’’

यह भी पढ़ें…..पूर्व मंत्री पंडित सिंह ने पुलिस व प्रशासन को मंच से दी धमकी, देखते रहे अधिकारी

उन्होंने कहा, ‘‘हमारी पार्टी ने उन्हें स्वीकार किया है। यह कहना कि (करूणानिधि को) नजरबंद किया गया था, सीमा रेखा का उल्लंघन है।’’ उन्होंने यहां संवाददाताओं से कहा कि इस तरह के बयान मुख्यमंत्री पद पर आसीन व्यक्ति को शोभा नहीं देते।

(भाषा)