Top

चना नहीं, नाश्ते में करें इस अंकुरित अनाज को शामिल, रोगों से लड़ने में मिलेगी मदद

suman

sumanBy suman

Published on 16 Oct 2017 9:27 AM GMT

चना नहीं, नाश्ते में करें इस अंकुरित अनाज को शामिल, रोगों से लड़ने में मिलेगी मदद
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कुल अनाज के वजन का केवल 2.5 से 3.8 प्रतिशत भाग ही वीट जर्म होता है, यह हिस्सा अनाज के बाकी सभी हिस्सों के मुकाबले अधिक पौष्टिक होता है।

गेहूं के अंकुर या वीट जर्म में 10-15 प्रतिशत लिपिड, 19 प्रतिशत प्रोटीन, 17 प्रतिशत शर्करा, 1.5-4.5 प्रतिशत फाइबर और 4 प्रतिशत खनिज पाए जाते हैं जो इसके पोषक तत्वों के प्रोफाइल के साथ एक प्रभावशाली पोषण संबंधी प्रोफाइल है।

प्रकृति ने बहुत से पोषक तत्वों को एक छोटे से कर्नेल में पैक किया है, और इसलिए अंकुरित अनाज को एक पूरक आहार के रुप में देखा जाता है। यदि अंकुरित गेंहू की सही ताकत को समझना चाहते हैं, तो ये रही फायदेमंद बातें।

यह भी पढ़े...मशरूम में छिपा डिप्रेशन का इलाज, रिसर्च में हुआ खुलासा

*भोजन में फाइबर की मात्रा बढ़ाने के लिए भोजन में गेहूं की चोकर मिलायी जाती है, वहीं गेहूं का अंकुर या वीट जर्म भी समान रूप से फायदेमंद हो सकता है। इसका फाइबर प्रोफाइल काफी प्रभावशाली होता है, और इसीलिए यह आहार में फाइबर की मात्रा बढ़ाता है और आपको कब्ज या कॉन्स्टिपेशन राहत दिलाता है।

*रोग-प्रतिरोधक प्रणाली या इम्यूनिटी पर फाइबर युक्त आहार का अच्छा प्रभाव पड़ता हैं। गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल सिस्टम में फाइबर, पेट से हानिकारक रोगाणुओं को साफ करने में मदद करता है और अच्छे बैक्टीरिया के प्रसार में मदद करता है। इसीलिएअंकुरित गेंहू जैसे फाइबर से भरपूर भोजन, रोग-प्रतिरोधक प्रणाली के लिए बहुत अच्छा साबित हो सकता है।

*मधुमेह या डायबिटीज के मरीज इससे खाने से बचने की कोशिश कर रहे हैं, तो को डरने की जरूरत नहीं है। जैसा अंकुरित गेंहू में डायटरी फाइबर की एक अच्छी मात्रा होती है। यह भोजन के बाद या पोस्ट्प्रैन्डीअल ब्लड ग्लूकोज की प्रतिक्रिया को कम करने में मदद कर सकता है। अपने आहार में साबुत अनाज शामिल करने से आपको टाइप 2 डायबिटीज से बचने में मदद हो सकती है।

यह भी पढ़े.कभी हेल्थ के लिए रामबाण तो कभी होता नुकसान, जानिए प्याज से जुुड़ी ये बातें

*गेहूं के रोगाणु हृदय स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद कर सकते हैं। न्यूट्रिशनिस्ट और हेल्थ एकस्पर्ट्स ने हमेशा से बेहतर हार्ट हेल्थ के लिए साबुत अनाज खाने की सलाह दी है। अपने शानदार न्यूट्रिशनल प्रोफाइल के साथ, वीट जर्म, आपके दिल को स्वस्थ रखने और कोरोनरी हृदय रोगों के जोखिम को कम करने के लिए जरूरी होता है।

फाइबर से समृद्ध आहार, ज्यादा वजन और मोटापे से बचा सकता है।अंकुरित गेंहू खाने से न केवल पर्याप्त फाइबर मिलेगा, बल्कि आप कई घंटों के लिए ऊर्जा भी प्राप्त हो सकती है, जिससे आप बिना सोचे-समझे खाने से बच सकते हैं। तो अगर आप वेट लॉस के लिए एक असरदार भोजन की तलाश कर रहे हैं, तो अंकुरित गेंहू आपके लिए काफी है।

suman

suman

Next Story