Top

होली के बाद करें ये काम, हनुमान जी आपको उबारेंगे हर संकट से

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 28 Feb 2018 7:36 AM GMT

होली के बाद करें ये काम, हनुमान जी आपको उबारेंगे हर संकट से
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: होली के दिन बहुत सारे सिद्ध साधक अपनी इच्छाओं की पूर्ति के लिए देवी-देवताओं को प्रसन्न करते हैं। आम जन भी टोने-टोटकों का सहारा लेकर अपनी मनोकामनाएं पूर्ण करवाने का यह अवसर हाथ से जाने नहीं देता। यदि आप भी अपनी किसी अभिलाषा की पूर्ति चाहते थे लेकिन होली की भाग-दौड़ में समय नहीं मिल पाया या कुछ ऐसी परिस्थितियां बन गईं कि मनचाही पूर्ति के लिए कोई उपाय नहीं कर पाए तो ऐसे में आसुरी शक्तियों और ऊपरी बाधाओं को नाश करने में राम भक्त हनुमान से अधिक कोई सहाय नहीं हो सकता। उन्हें प्रसन्न करने के लिए किसी अबूझ मुहूर्त की अवश्यकता नहीं है। आप ये उपाय किसी भी दिन कर सकते हैं। अगर प्रतिदिन करेंगे तो हनुमान जी आपको हर संकट से उबारेंगे, जमकर बरसाएंगे धन।

ये भी पढ़ें: होली में मस्ती तो करें लेकिन अपने स्वास्थ्य का भी रखें ख्याल

रुद्रावतार हनुमान जी श्रीरामोपासना के परमाचार्य है। राम-भक्ति के संरक्षक का आशीर्वाद पाकर ही राम कृपा पाई जा सकती है। उनका नाम स्मरण कभी भी किसी भी समय किया जा सकता है। हनुमान जी की सेवा में कोई विशेष प्रयास करना नहीं पड़ता। हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए केवल दो शब्द बोलें जय सीताराम। संसार की ऐसी कोई कामना नहीं जिसे हनुमान जी पूरी नहीं करते। हनुमान जी को राम भक्त बहुत प्रिय हैं। हनुमान जी की उपासना करने का दो शब्द का जाप बहुत ही सरल व सहज माध्यम है। उनसे अपनी इच्छाएं पूर्ण करवाने के लिए हर रोज घर में इन दो शब्दों का जाप करें।

ये भी पढ़ें: इस रंग का धागा बांधने के पीछे हैं धार्मिक और वैज्ञानिक कारण

इसके अतिरिक्त हनुमान जी को अपने और घर-परिवार के करीब रखने का सबसे सरल माध्यम है, रामचरितमानस का पाठ। शास्त्रों के मतानुसार केवल हनुमान जी ऐसे देव हैं जो सशरीर आज भी धरती पर विराजमान हैं। जो कोई उन्हें प्रेम से ध्याता है वह उसके सभी मनोरथ पूर्ण करते हैं। श्रीराम व सीता माता ने रामायण में उन्हें संकट मोचन कहा है। मां सीता ने ही हनुमान जी को उनकी असीम सेवा भक्ति से प्रसन्न होकर अष्ट सिद्धियों तथा नव-निधियों का स्वामी बनाया है। जिस घर में प्रतिदिन श्रीरामायण का पाठ होता है, उस घर में हनुमान जी की कृपा बनी रहती है।

Newstrack

Newstrack

Next Story