×

12 बजे पेश होगा रेल बजट, प्रभु के पिटारे में UP के लिए क्या होगा खास ?

Admin
Published on 25 Feb 2016 3:51 AM GMT
12 बजे पेश होगा रेल बजट, प्रभु के पिटारे में UP के लिए क्या होगा खास ?
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

लखनऊ: मोदी सरकार गुरुवार को अपना तीसरा रेल बजट पेश करने जा रही है। दोपहर 12 बजे रेल मंत्री सुरेश प्रभु लोकसभा में बजट पेश करेंगे। इस बार भी उम्मीद की जा रही है रेल बजट में यूपी को कुछ सौगात मिलेंगी और जो वादे पिछले रेल बजट में किए गए थे, वो पूरे होंगे। सुरेश प्रभु का ये दूसरा रेल बजट होगा। हालांकि किराया बढ़ने के आसार कम हैं, लेकिन उनके सामने घटती आमदनी और बढ़ती उम्मीदों के बीच बेहतर बजट पेश करने की चुनौती होगी।

क्या चाहिए यूपी को ?

-महिलाओं में बढ़ती असुरक्षा की भावना को देखते हुए ट्रेनों में उनकी सुरक्षा को लेकर कुछ पुख्ता इंतजाम होने चाहिए।

- रेल टिकटों के लिए छोटे-छोटो जिलों में भी रिजर्वेशन काउंटर की खुलें।

-रेल बजट में खासतौर पर यूपी से कुछ नई ट्रेनों को चलाए जाने का ऐलान किया जाए।

पिछले रेल बजट की ये बातें नहीं हुईं अब तक पूरी

-आईआईटी बीएचयू में अभी तक रेलवे रिसर्च सेंटर नहीं खुल पाया है।

- रेल मंत्री ने घोषणा की थी कि 2015-16 में प्राइमरी रिसर्च के लिए देश के चुनिंदा यूनिवर्सिटी में 4 रिसर्च सेंटर खोले जाएंगे।

-गोमतीनगर स्टेशन अब तक इंटरनेशनल लेवल का स्टेशन नहीं बन पाया है।

- इसकी नींव करीब 10 साल पहले अटल बिहारी वाजपेयी ने रखी थी।

-गोमतीनगर रेलवे स्टेशन को वर्ल्ड क्लास बनाने की बात कही थी, लेकिन अब तक इसका एक्सटेंशन नहीं हुआ है।

-अभी तक इसमें टर्मिनल और वॉशिंग लाइन तैयार नहीं हुआ है।

- रेलवे की सिक्युरिटी प्रोजेक्ट के लिए यूपी के कानपुर आईआईटी को चुना गया था।

- इस प्रोजेक्ट के लिए सिर्फ ट्रायल और टेस्टिंग हुई। एक भी जगह काम शुरू नहीं हो सका।

रेल बजट में हो सकता है ऐलान

-किराए की जगह सरचार्ज में बढ़ोत्तरी

-यात्रियों के लिए सुविधाएं बढ़ाई जा सकती हैं

-कस्टमर सर्विस पर ज्यादा ध्यान दिया जा सकता है

-रेल यात्रा को हाइटेक बनाने पर ध्यान दिया जा सकता है

-ट्रेनों में वाई-फाई जैसी सुविधाएं शामिल हो सकती हैं

-ट्रेनों में साफ-सफाई पर खास जोर दिया जा सकता है

-प्रमुख ट्रेनों में एक एक्स्ट्रा जनरल कोच लगाने पर फैसला हो सकता है

-रियायती टिकट या फ़ैसिलिटीज में कटौती हो सकती है

-मौजूदा वित्त वर्ष में मानवरहित क्रॉसिंग को खत्म किया जा सकता है।

Admin

Admin

Next Story