×

शाहजहांपुर में रिक्शे पर गनर को बैठाकर प्रत्याशी मांग रहा वोट

seema

seemaBy seema

Published on 26 April 2019 7:53 AM GMT

शाहजहांपुर में रिक्शे पर गनर को बैठाकर प्रत्याशी मांग रहा वोट
X
शाहजहांपुर में रिक्शे पर गनर को बैठाकर प्रत्याशी मांग रहा वोट
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

आसिफ अली

शाहजहांपुर। शहर में इन दिनों एक अजीब नजारा दिखाई पड़ता है। नजारा है एक रिक्शे में कार्बाइन थापे एक सिपाही और लोगों से हाथ जोड़ कर वोट मांगता रिक्शा चालक। रिक्शे पर सिपाही को ढोने वाले व्यक्ति असल में लोकसभा प्रत्याशी है। चुनाव में सुरक्षा की दृष्टि से प्रत्याशी को गनर दिया जाता है। मगर प्रत्याशी के पास कार है नहीं सो वह गनर को रिक्शे पर बैठाकर घूमता है। इस प्रत्याशी की खासियत है कि वह राष्ट्रपति चुनाव समेत १८ चुनाव अब तक लड़ चुका है। ये बात अलग है कि जीता एक भी नहीं है। ये प्रत्याशी इस चुनाव में खूब बड़े बड़े वादे कर रहा है। उसको पूरी उम्मीद है कि इस बार जीत जरूर होगी।

यह भी पढ़ें : नक्सलियों ने किया दुस्साहस पूर्ण कार्य- BJP का कार्यालय उड़ाया, इलाके में दहशत का मा

रिक्शा चलाते इस प्रत्याशी का नाम है वैधराज किशन। चुनाव के लिए नामांकन हो या वोट मांगने का अनोखा तरीका, वह सभी तरीके आजमाते हैं। इस बार वैधराज किशन संयुक्त विकास पार्टी के टिकट पर लोकसभा सुरक्षित सीट से चुनाव मैदान में हैं। वोट मांगने के उसके अजीबोगरीब ढंग ने उसे चर्चा का विषय जरूर बना दिया है। दूसरे प्रत्याशी भी उसके अनोखे ढंग से वोट मांगने को लेकर हैरान हैं। वैधराज किशन का कहना है कि मैं बहुत गरीब हूं इसलिए जनता से हमें कोई खतरा नहीं है। हमने गनर नहीं मांगा था फिर भी गनर दे दिया गया। मेरे पास कार तो है नहीं इसलिए रिक्शे पर वोट मांग रहे हैं। गनर को रिक्शे पर बैठाना पड़ रहा है। उन्होंने जनता से वादा किया है कि वह जीतने के बाद जिले के नौजवानों को नौकरी देंगे। उनका कहना है कि जीत मेरी होगी क्योंकि जनता का पूरा सहयोग मिल रहा है।

seema

seema

सीमा शर्मा लगभग ०६ वर्षों से डिजाइनिंग वर्क कर रही हैं। प्रिटिंग प्रेस में २ वर्ष का अनुभव। 'निष्पक्ष प्रतिदिनÓ हिन्दी दैनिक में दो साल पेज मेकिंग का कार्य किया। श्रीटाइम्स में साप्ताहिक मैगजीन में डिजाइन के पद पर दो साल तक कार्य किया। इसके अलावा जॉब वर्क का अनुभव है।

Next Story