Top

OMG! बच्चे के तीन प्राइवेट पार्ट, सभी देख हुए हैरान

डॉ. शाकिर ने बताया, "बच्चा जब गर्भ में था, तब दवाओं के संपर्क में सही से नहीं आ पाया, इस वजह से ऐसा हुआ होगा।"

Chitra Singh

Chitra SinghBy Chitra Singh

Published on 3 April 2021 11:23 AM GMT

OMG! बच्चे के तीन प्राइवेट पार्ट, सभी देख हुए हैरान
X

OMG! बच्चे के तीन प्राइवेट पार्ट, सभी देख हुए हैरान (Photo- Social Media)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: क्या आपने कभी तीन प्राइवेट पार्ट के साथ बच्चे को जन्म लेते हुए सुना है? जी हां आपने सही पढ़ा। बता दें कि इराक में कुछ ऐसा मामला सामने आया है जिसे देखकर डॉक्टर भी हैरत में पड़ गए है। बता दें कि इराक में एक बच्चा तीन प्राइवेट पार्ट के साथ पैदा हुआ है। डॉक्टर का कहना है कि उन्होंने ऐसा पहला केस देखा है, जिसमें किसी बच्चे का तीन प्राइवेट पार्ट है, इसे मेडिकल लैंग्वेज में ट्रिपहेलिया (Triphelia) कहा जाता है।

कैसे हुआ खुलासा

दरअसल ये मामला इराक के मोसुल शहर का है, जहां एक बच्चे तीन प्राइवेट पार्ट के साथ पैदा हुआ है। जानकारी के मुताबिक, इस मामले का खुलासा तब हुआ जब बच्चे के परिजन बच्चे के प्राइवेट पार्ट में सूजन की शिकायत लेकर डॉक्टर के पास गए। जब डॉक्टर ने बच्चे का चेकअप किया तो पाया कि बच्चे के दो और लिंग उभर रहे है। डॉक्टर ऐसा केस देख हैरत में पड़ गए। डॉक्टर का कहना है कि विज्ञान के क्षेत्र में ऐसा पहली बार हुआ है, जब किसी शिशु के तीन प्राइवेट पार्ट है।

Baby (Photo- Social Media)

डॉक्टर ने दी जानकारी

जब डॉक्टर से इसके बारे में पूछा गया तो उन्होंने बताया, "क्योंकि बच्चा गर्भ में किसी भी दवा के संपर्क में नहीं था और साथ ही उसके परिवार के इतिहास में ऐसी आनुवांशिक समस्या नहीं देखी गई थी।" इंटरनेशनल जर्नल ऑफ सर्जरी (International Journal of Surgery) केस की रिपोर्ट लिखने वाले डॉ. शाकिर सलीम जबाली ने बताया, "माना जा रहा है कि बच्चा जब गर्भ में था, तब दवाओं के संपर्क में सही से नहीं आ पाया, इस वजह से ऐसा हुआ होगा।" बता दें कि इस केस की जानकारी डॉ. शाकिर सलीम जबाली और आयद अहमद मोहम्मद ने दी है। एक स्टडी के मुताबिक, ऐसा मामला 50 से 60 लाख बच्चों में से एक पाया जाता हैं।

Chitra Singh

Chitra Singh

Next Story