×

वो मनहूस गाना जिसको सुनते ही लोग कर लेते थे आत्महत्या, 1963 में लगाया गया गाने पर बैन

इस सॉन्ग का नाम है ग्लूमी सन्डे, सन 1933 में हंगरी के रेजसो सेरेज ने इस गाने को कंपोज़ किया था। इस गाने में उन्होंने जंग के बारे में बताया था कि जंग के बाद हमारा क्या-क्या नुकसान होता है।

Anjali Soni
Written By Anjali Soni
Updated on: 2022-09-20T15:30:10+05:30
वो मनहूस गाना जिसको सुनते ही लोग कर लेते थे आत्महत्या, 1963 में लगाया गया गाने पर बैन
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Most Depressing Song: आत्महत्या हमारी आज की सोसाइटी की बहुत बड़ी समस्या है। ना जाने हर दिन कितने लोग आत्महत्या का शिकार बन जाते हैं। आत्महत्या का कारण कुछ भी हो सकता है जैसे कोई इंसान डिप्रेस्ड होने के कारण ऐसा कर लेते हैं तो कई बच्चे पढ़ाई के प्रेशर की वजह से यह गलत राह चुन लेते हैं। कुछ तो गेम्स खेल कर सुसाइड कर लेते हैं ऐसे जो भी चीज़ें होती है जिसमें बहुत दुःख भरी बाते होती है। दुनिया को बुरा दिखाया जाता है ये हमारे दिमाग पर असर करता है क्योंकि मनुष्य का दिमाग बहुत सेंसिटिव होता है। तो हम कुछ ऐसी बातें दिल पर ले लेते हैं। इन सब बातों से हम इतना डिप्रेस्ड हो जाते हैं कि हम कुछ गलत कदम उठा लेते हैं। ऐसी ही बातों वाला एक गाना जिसे सुनकर 100 से भी अधिक लोगों ने आत्महत्या की है।

आखिर ऐसा क्या है इस गाने में

इस सॉन्ग का नाम है ग्लूमी सन्डे, सन 1933 में हंगरी के रेजसो सेरेज ने इस गाने को कंपोज़ किया था। इस गाने में उन्होंने जंग के बारे में बताया था कि जंग के बाद हमारा क्या-क्या नुकसान होता है। इसके बाद 1935 में इस गाने को चेंज किया। इस गाने के लिरिक्स को चेंज किया। अब इसके शब्द किसी जंग के बारे में नहीं एक लड़की के बारे में थे जो कि सुसाइड करना चाहती थी। उस लड़की की वजह ये थी कि उसका जो प्रेमी था वो मर चुका था और वह लड़की भी इस दुनिया में अब नहीं रहना चाहती थी। इस गाने में लड़की अपना दुःख दर्द बता रही थी। 1950 में हंगरी के कई टीनएजर ने इस गाने को सुनकर आत्महत्या कर ली और इस गाने का असर U.S में भी हो रहा था उस समय कई ऐसी आत्महत्या हुई जिसके पीछे का कारण ये सॉन्ग था।

यह सॉन्ग 1963 में हुआ बैन:

1963 से लेकर 2002 तक यह सॉन्ग बैन हो गया था। इसकी डिटेल DVD मार्केट में उस समय हटा दी थी आपको बता दें 1968 में इस गाने के ओरिजिनल कंपोजर ने भी आत्महत्या कर ली थी। हालांकि इस गाने में ऐसा कुछ खतरनाक नहीं है लेकिन इस गाने के शब्द बहुत डिप्रेस्ड है। इस गाने को सुनने के बाद हमारे दिमाग में नेगेटिविटी आ जाती है और हमें सब कुछ गलत ही नजर आता है। कोई भी नेगेटिव चीज़ कोई भी दुखी चीज जो इस दुनिया में सामने आती है हमें उससे लड़कर आगे बढ़ना चाहिए और हमेशा अपने दिमाग में एक पाजिटिविटी रखनी चाहिए।

Anjali Soni

Anjali Soni

Next Story