×

Ajab-Gajab: उड़न तश्तरी का रहस्य खोलने की तैयारी में नासा, शुरू करेगा पड़ताल

Ajab-Gajab: नासा, यूएफओ का एक अध्ययन शुरू कर रहा है। इस अंतरिक्ष एजेंसी ने घोषणा की है कि वह इस मामले की जानकारी निकालने के लिए एक स्वतंत्र टीम का गठन कर रही है।

Ramkrishna Vajpei
Updated on: 13 Jun 2022 12:00 PM GMT
NASA is preparing to open the secret of flying saucer, will start investigation
X

अजब गजबः उड़न तश्तरी का रहस्य खोलने की तैयारी में नासा: Photo - Social Media

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Ajab-Gajab: आकाश में पक्षियों का उड़ना सामान्य बात है। हवाई जहाज हेलीकाप्टर उड़ते नजर आना भी सामान्य है। लेकिन जब इन सब से कहीं अलग कोई ऐसी वस्तु उड़ती दिखायी दे जिसे हम नहीं जानते तब ऐसी अजीब चीज को अंग्रेजी में अनआयडेंटीफाइड फ्लाइंग ऑब्जेक्ट (unidentified flying object) यानी यूएफओ (UFO) या उड़न तश्तरी कहते हैं। आसमान में उड़ने वाली ये अजीब चीज साइंस के लिए भी किसी रहस्य (Mystery) से कम नहीं है।

ऐसा नहीं है कि भारत में उड़ने वाली ये अजीब वस्तु कभी नजर नहीं आई इस संबंध में तमाम दावे हैं। लेकिन अमेरिका (America) में ये उड़न तश्तरियां (UFO) दिखने की कुछ ज्यादा ही घटनाएं हुई हैं। जिसके बाद अब नासा इस पर अध्ययन करने जा रहा है।

नासा ने यूएफओ पर अध्ययन शुरू किया

नासा, यूएफओ का एक अध्ययन शुरू कर रहा है। इस अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त अंतरिक्ष एजेंसी ने घोषणा की है कि वह इस मामले की जानकारी निकालने के लिए एक स्वतंत्र टीम का गठन कर रही है। टीम यह भी अध्ययन करेगी कि अस्पष्टीकृत यूएफओ देखे जाने को समझने के लिए कितना आवश्यक है।

Photo - Social Media

नासा के विज्ञान मिशन प्रमुख, थॉमस ज़ुर्बुचेन (NASA Science Mission Chief Thomas Zurbuchen) का कहना है कि पारंपरिक वैज्ञानिक समुदाय नासा को विवादास्पद विषय में प्रवेश करके इसे देख सकता है। हालांकि, वह दृढ़ता से इस तरह की घटनाओं से असहमत हैं। वह कहते हैं कि हम जोखिम से दूर नहीं भाग रहे हैं।

आपको बता दें साइंस का विकास ऐसे समय में आ गया है जब यूएफओ देखे जाने की संख्या तेजी से बढ़ रही है, खासकर अमेरिका में। कुछ ही दिनों पहले, कई लोगों ने मिसौरी राज्य में रात में आकाश में प्रकाश का एक चमकीला गोला देखा। लोग पूरी तरह से स्तब्ध रह गए। ऐसा लगता है जैसे UFO एक घंटे के लिए आसमान में घूमा हो।

आकाश में दिखा यूएफओ

फार्मिंगटन की मेलिसा बेट्स ने द सन को बताया कि आकाश में एक घंटे के लिए तेज रोशनी दिखाई दे रही थी। यह घटना कुछ दिनों बाद हुई इससे पहले उसकी सहेली ने भी आसमान में ऐसी ही चमक देखी थी। फुटेज में आकाश में घूमते हुए प्रकाश की एक चमकीली गेंद देखी जा सकती है। लगभग 30 सेकंड बाद, ऐसा लगता है कि दिशा बदल रही है। मेलिसा चकित रह गई। टेक्सास में, कोनर नाम के एक व्यक्ति ने जमीन पर गिरते हुए एक ओर्ब को फिल्माने का दावा किया था। 23 वर्षीय कोनर रात की पाली में थे जब उन्होंने कथित तौर पर प्रकाश की लकीर देखी।

यूएफओ का विश्लेषण करने के लिए अध्ययन करीब नौ महीने चलेगा, जिसकी लागत 100,000 डॉलर से अधिक नहीं होगी। यह पूरी तरह से खुला रहेगा। नासा ने कहा कि टीम का नेतृत्व वैज्ञानिक अनुसंधान को आगे बढ़ाने की जिम्मेदारी सिमंस फाउंडेशन के अध्यक्ष एस्ट्रोफिजिसिस्ट डेविड स्परगेल की होगी।

अगर भारत के संबंध में यूएफओ की बात करें तो प्राचीन काल में भी इसका वजूद था। इस बात की पुष्टि कांकेर छत्तीसगढ़ राज्य के चरमा में पाए गए हिंदू धर्म से संबंधित रॉक गुफा चित्रों से होती है। जिसमें मानव आकृतियों को आधुनिक समय के स्पेस सूट के समान सूट पहने हुए और उड़न तश्तरी के समान चित्र, प्रत्येक में पंखे की तरह एंटीना और तीन पैरों के साथ चित्रित किया गया है।

Photo - Social Media

71 साल पहले भी दिखा यूएफओ

आधुनिक समय में अब से करीब 71 साल पहले 15 मार्च, 1951 की सुबह 10:20 बजे नई दिल्ली में एक फ्लाइंग क्लब के सदस्यों ने आसमान में सिगार के आकार की एक वस्तु देखी थी जो लगभग एक सौ फीट लंबी थी। यूएफओ कुछ समय के लिए मँडराता रहा और फिर नज़रों से ओझल हो गया।

इसके बाद 24 सितंबर 2004 को, समुद्री टापू में वैज्ञानिकों की एक टीम ने सुबह करीब 6:45 बजे एक निकटवर्ती पर्वत रिज के शीर्ष पर एक "स्नो मैन" जैसी एक सफेद वस्तु देखी। उस समय यह भी कहा गया कि यूएफओ "सीमा पार से एक जासूसी ड्रोन" हो सकता है या एक मौसम का गुब्बारा।

Photo - Social Media

29 अक्टूबर 2007 को भारत के कोलकाता में दिखा

29 अक्टूबर 2007 को पूर्वी कोलकाता में 3:30 से 6:30 के बीच एक तेज गति वाली वस्तु को पूर्वी क्षितिज में 30 डिग्री पर देखा गया था और इसे एक वीडियो कैमरे का उपयोग करके फिल्माया गया था। इसका आकार एक गोले से एक त्रिभुज और फिर एक सीधी रेखा में बदल गया। उड़न तश्तरी ने तेज प्रकाश फैलाया और कई रंगों का प्रकाश दिखा। इसे स्थानीय लोगों ने देखा और सैकड़ों लोग यूएफओ की एक झलक पाने के लिए ईएम बाईपास पर जमा हो गए।

वीडियो फुटेज एक टीवी न्यूज चैनल पर जारी किया गया था और बाद में एमपी बिड़ला तारामंडल, कोलकाता के निदेशक डॉ. डी पी दुआरी को दिखाया गया, जिन्होंने इसे "बेहद दिलचस्प और अजीब" पाया। मोगप्पियार, चेन्नई के निवासियों ने 20 जून 2013 को रात 8.55 बजे के आसपास दक्षिण से उत्तर की ओर बढ़ते हुए चमकीले नारंगी प्रकाश के पांच छींटे देखे।

इसके बाद 4 अगस्त को, भारतीय सेना के सैनिकों ने लगान खेर क्षेत्र, डेमचॉक, लद्दाख पर अज्ञात उड़ने वाली वस्तुओं को देखा। यह भी बताया गया कि सेना के सैनिकों ने पिछले सात महीनों में अरुणाचल प्रदेश के सीमावर्ती क्षेत्रों में यूएफओ की सौ से अधिक घटनाओं को देखा था।

Shashi kant gautam

Shashi kant gautam

Next Story