अजब गजब: यहां लोग देते हैं दहेज में सांप, जो नहीं देते उनकी बेटी रहती है कुंवारी

जयपुर:दहेज़ को हमारे देश में गैर कानूनी  माना गया है। लेकिन आज भी लोग खुलेआम इसे लेते देते हैं और वे इसे दहेज़ नहीं, बल्कि अपनी बेटो को दिया गया प्यार बताते हैं। दहेज़ में लोग कई आभूषण और सामान देते हैं। लेकिन  एक ऐसी जाति के बारे में बताने जा रहे हैं जो दहेज़ में जहरीले सांप देते हैं और उनकी यह प्रथा पुराने समय से चली आ रही हैं। तो  जानते है इस के बारे में।

शादी की ये अनोखी प्रथा छत्तीसगढ़ के महासमुंद जिले में तुमगांव की बस्ती में रहने वाले सपेरा जाति के लोगों की परंपरा है यहां पर शादी में लड़की के घरवाले उसको शादी के समय करीब इक्कीस जहरीलें सांप देते हैं।  यदि कोई पिता अपनी बेटी को यह सब नहीं दे पाता है तो उस कुनबे की लड़किया कुंवारी ही रह जाती हैं।सपेरा जाति के लोगों के लिये रोजगार से लेकर कुल जमापूंजी भी यही जहरीले सांप हैं। इन्हीं जहरीले सांपों को दिखाकर जो पैसा इन्हें मिलता है उससे इनके परिवार का भरण पोषण होता है।

इन उपायों से आपका बच्चा नहीं बनेगा जिद्दी, आप इस दिन इसे आजमाएं

इसी तरह मध्य प्रदेश के गौरिया समुदाय में भी यह प्रथा बेहद चौंकाने वाली है। इस समुदाय के लोग अपनी बेटी की शादी में उसे घरेलू उपयोग के सामान और रुपए नहीं देते बल्कि उसे देते हैं 21 सांप। गौरिया समुदाय में यह परंपरा सदियों से चली आ रही है। हैरान करने वाली बात यह भी है कि जो सांप लड़की के पिता द्वारा दिए जाते हैं वो काफी जहरीले होते हैं। गौरिया समुदाय की इस अनूठी प्रथा को लेकर कई मान्यताएं भी हैं। एक मान्यता के मुताबिक अगर इस समुदाय से जुड़ा कोई शख्स अपनी बेटी की शादी में उसे सांप नहीं देता तो उसकी बेटी की शादी जल्दी ही टूट जाती है।

सांप दहेज में देने को लेकर दूसरी मान्यता यह है कि पिता इसीलिए अपनी बेटी को दहेज में यह सांप देता है ताकि उसका दामाद इन सांपों के जरिए अपनी कमाई कर सके और अपने परिवार का पेट पाल सके। दरअसल इस समुदाय के लोगों का मुख्य पेशा सांप पालन है और इस समुदाय के लोग, लोगों को सांप दिखाकर ही पैसा कमाते हैं। इसीलिए वो अपने दामाद को दहेज में सांप देते हैं।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App