×

सीमा के बेटे से सावधान! स्कूटी से कानपुर की गलियों में घूम रहा खुलेआम, भूल से भी न लेना मदद

Nitendra Verma Satire : ताजा मामला कानपुर का है। यहीं की रहने वाली एक महिला शशि देवी अपनी बहन और छोटी बच्ची के साथ एटा जाने के लिए बस का इंतजार कर रही थीं । इतने में एक नवयुवक स्कूटी से आया।

Nitendra Verma

Nitendra VermaWritten By Nitendra VermaShivaniPublished By Shivani

Published on 31 July 2021 5:20 AM GMT

nitendra verma
X

नितेंन्द्र वर्मा (फोटो: न्यूजट्रैक)

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

Nitendra Verma Satire : भैया दुनिया बहुत तेजी से तरक्की कर रही है । लेकिन समस्या ये है कि ये जो चोर उचक्के टाइप के लोग हैं ना इनकी तरक्की की स्पीड ज्यादा तेज है । बात कानपुर के चोर उचक्कों की हो तो कहना की क्या । बस ये समझ लीजिए कि चोरी उठाईगिरी की फील्ड में जो भी इन्वेंशन, इनोवेशन होते हैं सब कानपुर की जमीन से निकलते हैं ।

कानपुर में चोरी का नया तरीका

तो भैया ताजा मामला है यहीं के कल्याणपुर क्षेत्र का । यहीं की रहने वाली एक महिला शशि देवी अपनी बहन और छोटी बच्ची के साथ एटा जाने के लिए बस का इंतजार कर रही थीं । इतने में एक नवयुवक स्कूटी से आया । बाकायदा महिला के पैर छुए और अपना परिचय दिया । बोला सीमा का बेटा है । इसे कहते हैं कनपुरिया संस्कार । मतलब दूर गाँव का भी हो, भले ही आपकी उससे दूर दूर तक जान पहचान न हो लेकिन भैया पैर तो छुएगा ।

तो सीमा के बेटे ने खुलासा किया कि एटा वाली बस तो निकल चुकी है । अब शशि देवी बारिश के मौसम में भी पसीने से तर बतर हो गईं । लेकिन सीमा के बेटे का दिल बहुत बड़ा वाला निकला । बोला जल्दी बैइठो मैं बस पकड़वा दूंगा । बस फिर क्या था आनन फानन सब बेचारी इकलौती स्कूटी पे चढ़ लिए ।


लिफ्ट के बहाने बैग लेकर भागा चोर

थोड़ी दूर ही चले थे कि पेट्रोल पंप आ गया । सीमा का बेटा बोला कि पेट्रोल भरवा लें फिर चले । महिला अपनी बहन बच्चों समेत उतर पड़ीं । और लड़का तेल भरवाने चला गया । चला गया तक तो कोई दिक्कत नहीं लेकिन समस्या ये हुई कि पेट्रोल भरवा के लौटा ही नहीं । उससे बड़ी समस्या ये हुई कि ये तीन तो उतर लिए थे लेकिन स्कूटी के पैरदान पे रखा उनका बैग भी तेल भरवाने साथ ही में गया था ।

अब बेचारी शशि देवी खड़े खड़े दिमाग पे जोर डाल रही थीं कि आखिर ये सीमा है कौन??? बैग में तमाम जरूरी कागजात, नगदी, कपड़े लत्ते तो थे ही साथ में दूध की बोतल भी थी ।

तो भैया सब लोगों से झक्कीलाल का विनम्र निवेदन है राह चलते पैर कम छुआएं और सीमा के ऐसे बेटों से जरा सावधान रहें ।

Shivani

Shivani

Next Story