×

Ganesh Bhagwan: गणेशजी के प्रादुर्भाव की कथा

Ganesh Bhagwan: देवताओं और शिवजी के गणों तथा गणेशजी के मध्य भयंकर युद्ध छिड़ गया। गणेश जी का पराक्रम देखते ही बनता था। उ

Network
Report Network
Updated on: 2022-06-29T14:29:06+05:30
गणेशजी का बर्थ
X

गणेश जी (Social media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Ganesh Bhagwan: यूं तो पद्मपुराण, लिंगपुराण, ब्रहमवैवर्त पुराण व शिव पुराण इत्यादि प्राचीन ग्रंथों में जन्म की अलग-अलग कथायें दी गयी हैं लेकिन जो कथा जन सामान्य में प्रचलित है वह शिव पुराण में रूद्र संहिता के अन्तर्गत 13 से अठारहवें अध्याय में उल्लिखित है। एक बार पार्वती जी की सखियां जया एवं विजया ने उनसे कहा कि आपका अपना एक पुत्रगण होना चाहिए। क्योंकि नंदी, भृंगी इत्यादि शिव जी के गण हैं। और प्राय: वें उन्हीं के आदेश व निर्देशों का पालन करते हैं।

एक दिन जब पार्वती जी स्नान के लिए गई तो कन्दरा के द्वार की रक्षा के लिए उन्होंने नन्दी को तैनात कर दिया। अभी वे स्नान की तैयारी कर रही थीं कि अचानक शिवजी वहीं आये और नंदी की परवाह किये बिना सीधे भीतर चले गये। अपनी निजता में यह हस्तक्षेप पार्वती जी को कतई रास नहीं आया और तभी उन्होंने तय कर लिया कि वे अपने गण की रचना करेंगी। उसी समय उन्होंने चंदन के लेप से एक मानवाकृति की और उसमें प्राण फूंक दिये। फिर उस बच्चे को आशीर्वाद देते कहा पार्वती जी बोलीं आज से तुम मेरे पुत्र हो। इस महल के मुख्य द्वार की सुरक्षा का भार अब मैं तुम पर छोड़ती हूं। किसी को भी बिना मेरी इच्छा के भीतर न आने देना, चाहे कोई भी क्यों न हो।

ऐसा कहने के बाद उन्होंने उस बच्चे को एक दण्ड (डण्डा) दिया और स्नान करने के लिए चली गईं।

कुछ देर बाद शिव फिर वहां आये और भीतर जाने लगे। बालक गणेश नहीं जानता था कि यहीं उनके पिता हैं। गणेश ने हाथ में पकड़ा दण्ड दरवाजे के बीच में अड़ा दिया और बोला मेरी मां भीतर स्नान कर रही हैं । अत: मैं आपको अन्दर जाने की अनुमति नहीं दे सकता। गणेश के मुख से ऐसा सुनकर शिवजी के क्रोध का पारावार न रहा। वे बोले- मूढ़मति क्या तू जानता नहीं कि मैं कौन हूं, मैं शिव हूं,पार्वती का पति। यह तुम्हारी दृष्टता है कि जो तुम मुझे मेरे ही महल में प्रवेश करने नहीं दे रहे हो। इसी बीच रार बढ़ती देख शिवजी के गणों ने हस्तक्षेप किया और बोले हम भगवान शिव के गण हैं और यह सोचकर कि तुम भी हम में से एक हो । हमने तुम्हें कुछ नहीं कहा । अन्यथा अब तक तुम जीवित नहीं रहते। हमारी बात मान लो शिव जी को भीतर जाने दो क्यों बेकार अपने प्राणों के शत्रु बने हो।

लेकिन गणेश तनिक भी विचलित न हुए ।उन्होंने किसी को भी भीतर नहीं जाने दिया। शिव जी के गणों और गणेश के बीच तीखा वाक युद्ध चल ही रहा था कि गण यह जानकार घबरा गया कि गणेश पार्वती जी के पुत्र हैं। जो अपनी माता के आदेश के पालन हेतु द्वार पर पहरा दे रहे हैं। और वह शिव के पास गये और सब कुछ बता दिया। लेकिन संभवतः शिवजी अपने गणों का अहंकार चूर्ण करना चाहते थे। इसलिए उन्होंने सभी देवताओं का आहवान किया उन्हें व अपने गणों को गणेश जी पर आक्रमण करने का आदेश दिया। देवताओं और शिवजी के गणों तथा गणेशजी के मध्य भयंकर युद्ध छिड़ गया। गणेश जी का पराक्रम देखते ही बनता था। उन्होंने नुकीले तीरों की ऐसी बौछार की तथा अन्य शस्त्रों का ऐसा प्रयोग किया कि कुछ ही देर में शिव जी सेना तितर-बितर हो गयी।

जब शिव जी ने देखा कि गणेश उनके गणों और समस्त देवताओं पर भारी पड़ रहे हैं तो वे स्वयं युद्ध भूमि में कूद पड़े तब गणेश जी ने मन ही मन में माता पार्वती का स्मरण किया। और प्रार्थना कि उनमें ऊर्जा व शक्ति का संचार हो और फिर प्रस्तुत हो गये। शिवजी के पराक्रम का सामना करने हेतु। समस्त देवतागण शिव के पक्ष में थे। शीघ्र ही भीषण युद्ध प्रारम्भ हो गया । लेकिन गणेश जी को मार्ग से हटाना किसी के लिये सम्भव न हुआ। अंततः कोई अन्य उपाय न देख शिव जी ने अपने दिव्य त्रिशूल का प्रयोग किया और गणेश जी का सिर धड़ से अलग कर दिया। पार्वती जी को जब गणेश की मृत्यु की सूचना मिली तो उनका क्रोध सातवें आसमान को छूने लगा। उन्होंने अनेक दिव्य शक्तियों का आवाहन कर उन्हें सक्रिय किया और बिना कोई आगा-पीछा सोचे सम्पूर्ण ब्रहमाण्ड को तहस-नहस करने का आदेश दिया। सभी देवता तथा शिवगण अपने चारो ओर विनाश लीला होती देख भय से थर-थर कांपने लगे।

तब नारद जी की सलाह पर सभी पार्वती जी के पास गये और क्षमा प्रार्थना करने लगे। पार्वती जी बोलीं यह विनाश लीला अब तभी रूक पायेगी जब मेरा पुत्र गणेश जीवित हो उठेगा और उसे देवगणों में सर्वोच्च स्थान मिलेगा। जब भगवान शिव को यह सूचना मिली तो वे बोल आप सभी देवगण यहीं से उत्तर दिशा की ओर प्रस्थान करें और जो भी सर्वप्रथम जीवित प्राणी दिखायी पड़े ।उसी का शीश काट कर ले आयें। हम उसे गणेश के धड़ से जोड़ देंगे।

कुछ ही देर बाद देवता एक हाथी का सिर लेकर लौट आये उस हाथी का एक ही दांत था। हाथी के उस सिर को गणेश के धड़ पर रख दिया । तब देवताओं ने पवित्र वैदिक मंत्रों का उच्चारण किया और पवित्र जल गणेश जी के शरीर पर छिडक़ा। कुछ ही क्षण बाद गणेश जी ने इस प्रकार आंखें खोली मानों गहरी नींद से जागे हों। पार्वती जी अपने पुत्र को जीवित हुआ देख बहुत प्रसन्न हुईं।

Ragini Sinha

Ragini Sinha

Next Story