Top

Lucknow: मंत्री आशुतोष टंडन ने इलेक्ट्रिक बसों के ट्रायल रन को दिखायी हरी झंडी, जानिए खासियत

लखनऊ के 1090 चौराहे पर मंत्री आशुतोष टंडन में वातानुकूलित इलेक्ट्रिक बस के प्रोटोटाइप के ट्रायल रन को हरी झंडी दिखायी।

Ashutosh Tripathi

Ashutosh TripathiReport Ashutosh TripathiAshikiPublished By Ashiki

Published on 20 July 2021 10:20 AM GMT

Minister Ashutosh Tandon
X

लखनऊ के 1090 चौराहे से मंत्री आशुतोष टंडन ने इलेक्ट्रिक बसों के ट्रायल रन को दिखायी हरी झंडी

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: राजधानी लखनऊ (Lucknow) के 1090 चौराहे पर नगर विकास मंत्री आशुतोष गोपाल टंडन (Ashutosh Tandon) में वातानुकूलित एसी इलेक्ट्रिक बस के प्रोटोटाइप के ट्रायल रन को हरी झंडी दिखायी। इस मौके पर मंत्री आशुतोष गोपाल टंडन ने बताया कि आज चार इलेक्ट्रिक बसों का शुभारम्भ किया जा रहा है और प्रदेश में 700 इलेक्ट्रिक बसें आने वाले समय में चलायी जाएंगी।


भारत सरकार फ़ेम-2 योजना के तहत 600 बसें और प्रदेश सरकार के योजना के तहत 600 बसें हैं। इनमें से 100-100 तीन महानगरों लखनऊ कानपुर और आगरा और 50-50 बसें प्रयाग, वाराणसी, गाजियाबाद और मथुरा में चलायी जाएँगी । 25-25 बसें मुरादाबाद अलीगढ़ और शाहजहांपुर में चलायी जाएंगी।


उन्होंने इस मौके पर कि इलेक्ट्रिक बसों से ध्वनि प्रदूषण और वायु प्रदूषण में कमी आएगी और एक बेहतर परिवहन सेवा जनता को मिल सकेगी। राजधानी लखनऊ में अभी तक 40 इलेक्ट्रिक बसें चलायी जा रही थी, लेकिन किराया ज्यादा होने के कारण लोग बसों में नहीं बैठ रहे हैं, इस कारण यह निर्णय लिया गया है कि इलेक्ट्रिक बसों का किराया अगर एक साल तक सामान्य बसों के बराबर होगा।


खासियत

इन इलेक्ट्रिक बसों की सबसे बड़ी खासियत ये है कि पर्यावरण सुधार की दिशा में एक मददगार के रूप में नजर आएंगी। शहर की सड़कों पर इनके दौड़ने से वायु और ध्वनि प्रदूषण में कमी आएगी। इन बेआवाज वातानुकूलित बसों में यात्रियों का सफर आरामदेय और सुरक्षित होगा।


खूबियां

आवाज रहित बसें

वातानुकूलित

ध्वनि प्रदूषण मुक्त

लो फ्लोर

यात्रियों की सुरक्षा के लिए सीसीटीवी कैमरा

पैनिक बटन

एडजेसटेबिल सीटें

तेज चार्जिंग, फायर उपकरण

डेस्टिनेशन बोर्ड

80 किमी. दूरी के स्थान पर अब 120 किमी. दूरी तय करेंगी ये नई ई-बसें

Ashiki

Ashiki

Next Story