×

ये तो योगी की नहीं सुनते, 26 डीएम ऑफिस से मिले गायब, आई शामत, लिस्ट हुई जारी

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 19 July 2017 2:47 PM GMT

ये तो योगी की नहीं सुनते, 26 डीएम ऑफिस से मिले गायब, आई शामत, लिस्ट हुई जारी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: यूपी के 75 में से 26 जिलों के डीएम सीएम योगी आदित्यनाथ के टेस्ट में फेल हो गए। योगी ने सूबे के सभी जिलाधिकारियों और पुलिस कप्तानों के लिए टाइम टेबल निर्धारित किया था। इसके अनुसार इन्हें सुबह 9 बजे से 11 बजे तक अपने ऑफ़िस में आम आदमी की शिकायतें सुननी थी।

पहले पहल तो सभी इस निर्देश को मानते हुए समय पर कार्यालय आ रहे थे। फिर इन्हें लगा कि कुछ दिनों की बात है, पूर्व के सीएम की तरह योगी भी भूल जाएंगे की उन्होंने कुछ कहा भी था, और ये मनमानी करने लगे फिर क्या था, जिलों में कहीं डीएम 10 बजे तो कहीं 11 बजे ऑफिस आने लगे। जब इसकी शिकायतें योगी तक पहुंची, तो योगी ने 17 जुलाई को सभी डीएम का टेस्ट लेने का निर्णय किया।

ये भी देखें:अरे जनाब! किसानों के नहीं.. यहाँ तो विधायकों के ‘अच्छे दिन’, वेतन हुआ दोगुना

इसके बाद चीफ सेक्रेटरी ने सूबे के सभी डीएम को उनके ऑफिस के नंबर पर फोन किया। जब घंटी बजी तो 75 में से 26 डीएम आफिस से गायब मिले, डीएम की गैरमौजूदगी में जिसने भी फोन उठाया, वो अपने जवाब से संतुष्ट नहीं कर सका। इसके बाद इन सबको कारण बताओ नोटिस भेजा गया है।

आपको बता दें योगी हर दिन आवास पर जनता से मिलते हैं, योगी चाहते हैं की ऐसा ही जिलों के डीएम भी करें।

सीएम के आदेश न मानने पर इन 26 डीएम की सूची जारी कर दी गई है। लापरवाह डीएम पर क्या कार्रवाई होगी इस बारे में अभी सरकार की ओर से कुछ कहा नहीं गया।

देखें लिस्ट :

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story