Top

आखिर किसके लिए बोले आजम : लाइसेंस मिला हुआ है उन्हें बीफ बेचने, काटने और खिलाने का

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 26 March 2017 12:54 PM GMT

आखिर किसके लिए बोले आजम : लाइसेंस मिला हुआ है उन्हें बीफ बेचने, काटने और खिलाने का
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

रामपुर : योगी के मंत्री मोहसिन रजा ने एक बयान में कहा कि अमीर मुसलमान हज सब्सिडी छोड़ दें, जब इस के बारे में पूर्व मंत्री आजम खां से सवाल किया गया तो उन्होंने तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि उनके ख्याल से भाजपा के किसी खैराती वजीर को अमीर गरीब मुसलमानों के आगे गिड़गिड़ाना नहीं चाहिए।

पूर्व मंत्री ने कहा बल्कि भारत सरकार को सब्सिडी खत्म करने का पूरा अधिकार है और जब हज सब्सिडी को खत्म करने पर विचार किया जाये तो यह भी विचार किया जाना चाहिए कि क्या सेकुलर देश में जितने भी धार्मिक कार्यक्रम होते हैं किसी भी मजहब के उनमें सरकारी खजाने का पैसा खर्च होना चाहिए।

ये भी देखें : स्लॉटर हाउस बंद करवाने पर NON-VEG व्यापारियों ने की स्ट्राइक, सरकार से नाखुश

उन्होंने कहा कुम्भ, अर्द्ध कुम्भ को निशाने पर लेते हुए पूर्व मंत्री ने कहा कि इन पर सरकार का कितना पैसा खर्च होता है और हज की सब्सिडी पर कितना पैसा खर्च होता है। दोनों का अगर मुकाबला करेंगे तो उनके ख्याल से हाजियों के हिस्से में कोई प्रतिशत नहीं आयेगा। देश में मजहब और धर्म के नाम पर किसी को भी कुछ नहीं मिलना चाहिए। लेकिन अगर इंसाफ से काम लेंगे तो बहुत कुछ बंद हो जायेगा।

ये भी देखें : महंत सुरेश दास बोले- राम जन्मभूमि पर सिर्फ राम मंदिर का निर्माण, नहीं बनेगी मस्जिद

सीएम योगी की कैलाश मानसरोवर यात्रा के बारे में कहा कि सब कुछ उसी के बीच में आता है और चूंकि सरकार ही इन बुनियादों पर बनी है। लिहाजा इस पर इजहार ए ख्याल करने की कोई जरूरत पेश नहीं आती लेकिन इतना जरूर है और हम इसको दोहराना चाहते हैं कि बूचड़खानों के बारे में हम पिछले बीस बरस से कह रहे हैं कि इन्हें शत प्रतिशत बंद होना चाहिए। यह बहुत बुरी बात है कि विदेशी बीफ मीट खायें और हम देश में रहने वाले अपनी आस्था का ढिंढोरा पीटें और विदेशियों को अपनी आस्था के टुकड़ें भेजें।

ये भी देखें : MECON Limited में कई पदों पर भर्तियां, 31 मार्च से पहले करें आवेदन

बीजेपी पर तंज कसते हुए आजम ने कहा कि भाजपा के 140 ऐसे विधायक जीतकर आये हैं जिन पर बहुत संगीन अपराधिक धारायें हैं और इसी सिलसिले में सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका भी दायर हुई है।

ये भी देखें : #AntiRomeoSquads : शादीशुदा युवती की आबरू के पीछे पड़े तीन दबंग

आजम ने कहा कि साउथ में खुलेआम ब्रिकी की तरह ही उप्र के पांच सितारा होटलों में भी बीफ खुलेआम परोसा जाता है। अगर आपको मोहल्ले, गली में बीफ न मिले तो पैसे जमाकर पांच सितारा होटलों में जाकर खुलेआम खाईये। खुली इजाजत है, सरकारी लाइसेंस मिला हुआ है उन्हें बीफ बेचने, बीफ काटने और बीफ खिलाने का, बीफ की हड्डियों जमाकर कूड़े में डालने का। वैध बूचड़खाने भी लगभग सब ही हिन्दू भाईयों के हैं। अल कबीर दुनिया का सबसे बड़ा एक्सपोर्टर जैन परिवार का है और मैं फिर कहता हूं कि यह भाजपा के परम मित्र लोग हैं।

पूर्व मंत्री ने कहा जहां तक पार्कों में प्रेमिका प्रेमी का सवाल है हमारी जानकारी में यह इजाफा हुआ कि पार्कों में बैठकर भाई बहन भी इश्क करने लगे हैं। शायद मां बाप उन्हें घरों में भाई बहन का रिश्ता बनाने की इजाजत न देते हों यह भी हमारी जानकारी बढ़ी। आजम खां ने कहा कि असली सवाल किसान का है। बनारस में सबसे बड़े राजनैतिक व्यक्ति ने जिन्हें मैं बादशाह कहता हूं। ने बयान दिया था कि पहली कैबिनेट में उप्र के किसानों का सारा कर्ज माफ कर दिया जायेगा। पहली कैबिनेट में प्रदेश में चलने वाले सारे बूचड़खाने बंद कर दिये जायेंगे। उस वक्त वैध और अवैध की बात नहीं आई थी।

ये भी देखें : हॉस्पिटल में BJP नेताओं के पहुंचते ही मचा हडकंप, मरीजों के आस- पास गंदगी देख भड़के मंत्री

उन्होंने कहा एण्टी रोमियो अभियान चलेगा और किसी को पार्कों में बैठने की इजाजत नहीं दी जायेगी। प्यार के नाम छेड़छाड़ बिल्कुल बंद कर दी जायेगी। ये तीन बड़े वायदे थे। चलो मान लेते हैं दो बड़े वायदे इसलिए पूरे नहीं हुए कि समाज अभी इतना नहीं बंटा है कि लोग प्यार करना छोड़ दें।

ये भी देखें : गोरखपुर: बीजेपी कार्यालय पहुंचे सीएम योगी करेंगे मण्डल के सांसद ,विधायक,जिलाध्यक्षों के साथ बैठक

पूर्व मंत्री ने कहा ये भी मान लेते हैं कि वैध बूचड़खाने इसलिए बंद नहीं किये जा सकते कि वो हमारे हिन्दू भाईयों के हैं और भाजपा के बड़े नेताओं की उसमें हिस्सेदारी भी है। लेकिन किसान तो सब हैं। उनका कर्जा अगर पहली कैबिनेट में पास नहीं हुआ तो यह किसानों के साथ बड़ा धोखा है। सिर्फ उप्र का किसान ही नहीं बल्कि पूरे देश का किसान बहुत जरूरतमंद है। आत्महत्यायें सबसे ज्यादा भाजपा की सरकार वाले राज्येां में हुई हैं।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story