Top

ओवैसी की यूपी में हुई धमाकेदार इंट्री, AIMIM ने जीतीं 29 सीटें

Gagan D Mishra

Gagan D MishraBy Gagan D Mishra

Published on 2 Dec 2017 7:51 AM GMT

ओवैसी की यूपी में हुई धमाकेदार इंट्री, AIMIM ने जीतीं 29 सीटें
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: उत्तर प्रदेश निकाय चुनाव में आल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) ने भी अपनी उपस्थिति दर्ज कराई है। पिछले विधानसभा चुनाव में खाता भी न खोल पाने वाली एमआईएम ने 29 सीटों पर विजय हासिल की है।

फिरोजाबाद में सपा को तीसरे पर धकेला

असदुद्दीन ओवैसी की अगुवाई वाली पार्टी ने फिरोजाबाद में सबसे दमदार उपस्थिति दर्ज कराई है। एआईएमआईएम ने फिरोजाबाद में 11 सीटों पर विजय हासिल की है। पार्टी ने फिरोजाबाद में मेयर का चुनाव भी काफी दमदारी से लड़ा। एआईएमआईएम की उम्मीदवार मशरूम फातिमा यहां 56,536 मत हासिल कर दूसरे स्थान पर रहीं। एआईएमआईएम ने यहां समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार को तीसरे स्थान पर धकेल दिया। फिरोजाबाद में भाजपा विजयी रही और पार्टी की नूतन राठौड़ ने 99 हजार मतों के साथ सबको पटखनी दी। फिरोजाबाद के अलावा आजमगढ़ में भी एमआईएम ने तीन सीटों पर विजय हासिल की है। एमआईएम ने संभल, अमरोहा, मेरठ और बागपत में दो-दो सीटों पर विजय दर्ज की है। कानपुर, बिजनौर, इलाहाबाद, सीतापुर और डासना गाजियाबाद में एक-एक सीट पर एमआईएम ने विजय हासिल की है।

विधानसभा चुनाव में नहीं मिली थी कामयाबी

निकाय चुनाव से पहले ओवैसी ने अपने कार्यकर्ताओं में जोश भरते हुए कहा था कि राज्य में पार्टी अपने नेताओं व सदस्यों की मेहनत के बल पर सीटें जीतने में कामयाब हो सकती है। निकाय चुनाव में 29 सीटों पर विजय हासिल करने पर उन्हें मतदाताओं के प्रति आभार जताया है। पार्टी ने निकाय चुनाव में 78 उम्मीदवार उतारे थे जिनमें से 29 ने विजय हासिल की है। इस लिहाज से पार्टी के प्रदर्शन को दमदार माना जा रहा है। पिछले विधानसभा चुनाव में एमआईएम ने 35 सीटों पर उम्मीदवार उतारे थे मगर पार्टी कोई भी सीट जीतने में कामयाब नहीं हुई थी। ओवैसी की पार्टी की इस उपस्थिति को मुस्लिम मतों में बंटवारे के लिहाज से भी देखा जा रहा है। विधानसभा चुनाव के समय भी सियासी जानकारों ने कहा था कि ओवैसी की पार्टी के मुस्लिम मतों का बंटवारा करने से आखिरकार भाजपा को ही फायदा होगा।

Gagan D Mishra

Gagan D Mishra

Next Story