Top

वोट की अपील करने का क्या फायदा, जब बड़े-बड़े लोगों के नाम कट गए : अखिलेश

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 27 Nov 2017 11:24 AM GMT

वोट की अपील करने का क्या फायदा, जब बड़े-बड़े लोगों के नाम कट गए : अखिलेश
X
डिंपल नहीं लड़ेंगी अब लोकसभा चुनाव, अखिलेश हो सकते हैं कन्नौज से प्रत्याशी
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने निकाय चुनाव में मतदान केंद्रों से ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायत मिलने और कई वीआईपी लोगों तक के नाम मतदाता सूची से गायब रहने पर सोमवार को तंज कसते हुये कहा कि आम जनता से वोट की अपील करने का क्या फायदा, जब बड़े-बड़े लोगों के नाम कट गए।

अखिलेश ने ट्वीट कर कहा, "जब सांसद, मंत्री, मेयर तक के नाम मतदाता सूची से गायब हैं, तब आम जनता से वोट डालने की अपील का क्या फायदा। इसे सुधारना ही होगा, नहीं तो जो उंगलियां वोट देने के बाद शान से उठाई जाती हैं, वो सरकार की मंशा पर उठने लगेंगी। चुनावी प्रक्रिया में विश्वास लोकतंत्र की सबसे बड़ी जरूरत है।"

ये भी देखें :चुनाव आयोग देखेगा ईवीएम में गड़बड़ी का मामला : राम नाईक



गौरतलब है कि रविवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री तथा देवरिया से भारतीय जनता पार्टी के सांसद कलराज मिश्र के साथ ही उत्तर प्रदेश पुलिस के मुखिया सुलखान सिंह का नाम मतदाता सूची से गायब था। इनके साथ ही वाराणसी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रस्तावक रहे वीरभद्र निषाद का नाम भी मतदाता सूची में नहीं था।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story