Top

अनुप्रिया पटेल का हमला- पिछड़ों को आपस में लड़ाना चाहती है बीजेपी सरकार

बीजेपी से नाराज अपना दल की नेता और केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल ने कहा कि जिसकी जितनी संख्या भारी, उसकी उतनी हिस्सेदारी के आधार पर आरक्षण मिलना चाहिए। योगी सरकार एक का हिस्सा मारकर दूसरे को नहीं दे सकती। यूपी सरकार जातीय जनगणना न कराकर पिछड़ों को आपस में लड़ाना चाहती है।

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 8 Jan 2019 4:11 AM GMT

अनुप्रिया पटेल का हमला- पिछड़ों को आपस में लड़ाना चाहती है बीजेपी सरकार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली : बीजेपी से नाराज अपना दल की नेता और केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल ने कहा कि जिसकी जितनी संख्या भारी, उसकी उतनी हिस्सेदारी के आधार पर आरक्षण मिलना चाहिए। योगी सरकार एक का हिस्सा मारकर दूसरे को नहीं दे सकती। यूपी सरकार जातीय जनगणना न कराकर पिछड़ों को आपस में लड़ाना चाहती है।

ये भी देखें :गुजरात : पूर्व बीजेपी विधायक भानुशाली की चलती ट्रेन में गोली मारकर हत्या

अनुप्रिया ने कहा, हमारा केंद्र सरकार के साथ न कोई मतभेद है न मनभेद है। हम आगे भी केंद्र सरकार के साथ खड़े रहेंगे लेकिन हमारी समस्याओं का समाधान करना होगा। हम अपने कार्यकर्ताओं के सम्मान के साथ कोई समझौता नहीं करेंगे।

ये भी देखें :CBI का दावा: बगैर ई-टेंडरिंग के अखिलेश 14 और गायत्री ने 8 फाइलों को दी थी मंजूरी, जल्द होगी पूछताछ!

अनुप्रिया ने कहा कि हम एनडीए के साथ हैं और रहेंगे लेकिन यदि यूपी बीजेपी के कर्ताधर्ताओं ने आचार व्यवहार नहीं बदला तो हमें फैसला लेना होगा। दोनों ने सामाजिक न्याय समिति की रिपोर्ट को आधारहीन बताया। पिछड़ी जातियों को उनकी आबादी के अनुपात में आरक्षण की वकालत करते हुए सरकार से इसके लिए जातीय सेन्सस कराने की मांग की।

पटेल ने कहा कि बीजेपी की सरकार में सहयोगी दलों के कार्यकर्ताओं, नेताओं और मंत्रियों की उपेक्षा हो रही है। उनकी मांगों को सरकार नहीं सुन रही। उन्होंने कहा कि सहयोगियों के उपेक्षा से 2019 का लोकसभा चुनाव गड़बड़ा सकता है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story