J&K पुनर्गठन बिल 2019 पर समर्थन न देने से सोशल मीडिया पर ट्रोल हुई कांग्रेस

राहुल ने ट्वीट किया कि, ‘जम्मू-कश्मीर को दो हिस्सों में बांटकर, चुने हुए प्रतिनिधियों को जेल में डालकर और संविधान का उल्लंघन करके देश का एकीकरण नहीं किया जा सकता। देश उसकी जनता से बनता है न कि जमीन के टुकड़ों से। सरकार द्वारा शक्तियों का दुरुपयोग राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए घातक साबित होगा।’

J&K पुनर्गठन बिल 2019 पर समर्थन न देने से सोशल मीडिया पर ट्रोल हुई कांग्रेस

J&K पुनर्गठन बिल 2019 पर समर्थन न देने से सोशल मीडिया पर ट्रोल हुई कांग्रेस

पटियाला: आर्टिकल 370 के संशोधन की खुशी मनाना बीजेपी को भारी पड़ गया। बता दें, पटियाला में पुलिस ने बीजेपी नेताओं और हिंदू संगठनों के 16 कार्यकर्ताओं के खिलाफ अलग-अलग धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया है। इसपर कार्यकर्ताओं ने कैप्टन सरकार पर आरोप लगाया है।

यह भी पढ़ें: लखनऊ : J&K से आर्टिकल 370 के हटाए जाने पर खुशियां मनाता किन्नर समुदाय

कार्यकर्ताओं का आरोप है कि राज्य में सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह जानभूझकर ऐसा करवा रहे हैं। जानकारी के अनुसार, 16 कार्यकर्ता आर्टिकल 370 के संशोधन में पटाखे चला रहे थे और लड्डू बांट रहे थे। इसपर पुलिस ने उन लोगों को गिरफ्तार कर लिया।

जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन बिल 2019 पर कांग्रेस की हुई किरकिरी

वैसे आज लोकसभा में जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन बिल 2019 पर चर्चा के दौरान कांग्रेस की जमकर किरकिरी हुई। लोकसभा में कांग्रेस संसदीय दल के नेता अधीर रंजन चौधरी ने जम्मू-कश्मीर को ऐसा बयान दिया जिसकी वजह से कांग्रेस किरकरी हुई। सोशल मीडिया पर भी लोगों का आक्रोश दिखा।

यह भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर से बड़ी खबर: अब 9 जगहों पर पत्थरबाजी शुरू, अलर्ट जारी

कांग्रेस संसदीय दल के नेता ने लोकसभा में कहा कि 1948 से लेकर अभी तक जम्मू-कश्मीर के मसले पर संयुक्त राष्ट्र (UN) निगरानी कर रहा है, ऐसे में ये आंतरिक मामला कैसे कहा जा सकता है? बस कांग्रेस नेता के इसी बयान पर गृह मंत्री अमित शाह भड़क गए थे।

उनके इस बयान के खिलाफ ट्विटर पर #ShameOnCongress चल रहा है जिस पर कुछ मिनटों में ही 30 हजार से ज्यादा ट्वीट्स हो चुके हैं।

अधीर रंजन ने क्या कहा?

अधीर रंजन ने कहा, ‘हमारे एक प्रधानमंत्री ने शिमला समझौता किया, दूसरे प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने लाहौर समझौता किया और अभी हाल में विदेश मंत्री एस। जयशंकर ने अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो से कहा कि यह द्विपक्षीय मामला है।’ कांग्रेस सांसद ने पूछा, ‘यह (जम्मू-कश्मीर) अचानक आंतरिक मामला कैसे हो गया?’

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान के विदेश मंत्री की भारत को धमकी, जंग थोपी गई तो जवाब देंगे

अधीर रंजन के इस बयान से सोनिया गांधी भी नाराज दिखीं। इसके अलावा कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी जम्मू-कश्मीर और आर्टिकल 370 को लेकर ट्वीट किया है, जिसको लेकर अब यूजर्स उन्हे ट्रोल कर रहे हैं। राहुल ने ट्वीट किया कि, ‘जम्मू-कश्मीर को दो हिस्सों में बांटकर, चुने हुए प्रतिनिधियों को जेल में डालकर और संविधान का उल्लंघन करके देश का एकीकरण नहीं किया जा सकता। देश उसकी जनता से बनता है न कि जमीन के टुकड़ों से। सरकार द्वारा शक्तियों का दुरुपयोग राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए घातक साबित होगा।’