Top

सपा-कांग्रेस गठबंधन पड़ा खटाई में, अखिलेश अकेले उतर सकते हैं मैदान में

aman

amanBy aman

Published on 20 Jan 2017 12:29 PM GMT

सपा-कांग्रेस गठबंधन पड़ा खटाई में, अखिलेश अकेले उतर सकते हैं मैदान में
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

अनुराग शुक्ला/ शारिब जाफरी

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में अब कांग्रेस और समाजवादी पार्टी का समझौता खटाई में पड़ गया है। कांग्रेस की सभी मजबूत सीटों पर समाजवादी पार्टी ने प्रत्याशी उतार दिए हैं। दरअसल अब तक माना जा रहा था कि कांग्रेस और सपा विधानसभा चुनाव मिलकर लड़ेंगे। कांग्रेस की अपनी तरफ से 105 सीटें मांग रही है और सपा उसे अधिकतम 90 सीट देने को तैयार है। बीच के रास्ते वाले फार्मूले पर भी बातचीत चल रही है जिसके तहत 90 सीटें कांग्रेस को दी जाए और 15 कांग्रेसी सपा की साइकिल के सवार बने। यानी 15 कांग्रेस के प्रत्याशी सपा के सिंबल पर चुनाव लड़ेंगे। वहीं अखिलेश यादव ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश की करीब-करीब हर सीट पर अपने उम्मीदवार उतार कर इशारो में इस समझौता को टूट की ओर बढा दिया है। इतना ही नहीं उपचुनाव में कांग्रेस के जीते विधायक जिन्होंने सपा ज्वॉइन कर ली है, उन माविया अली को भी सपा की लिस्ट में जगह मिली है।

कांग्रेस की कई मजबूत सीटों पर उम्मीदवार उतारे

समाजवादी पार्टी ने कांग्रेस के नेता विधायक दल के नेता प्रदीप माथुर को जगह अशोक अग्रवाल को उतार दिया है। वहीं सहारानपुर से कांग्रेस के उपाध्यक्ष की सीट समझी जाने वाली नकुड से समाजवादी पार्टी ने तब्बसुम हसन को उतार कर समझौता खत्म होने की तरफ इशारा किया है। शामली से कांग्रेस के मौजूदा विधायक पंकज मलिक की जगह समाजवादी पार्टी ने मनीष चौहान को उतार कर उनका खेल बिगाड़ दिया है। वहीं, कानपुर में कांग्रेस की पारंपरिक सीट किदवई नगर पर अजय कपूर की जगह ओमप्रकाश मिश्र को उतार कर अखिलेश ने कांग्रेस को चरखा दांव दे दिया है। खुर्जा से बंशीधर पडाहिया कांग्रेस के कई बार के विधायक हैं। उनकी जगह भी नंदकिशोर बाल्मीकि को अखिलेश ने सपा का उम्मीदवार घोषित कर दिया है। वहीं हापुड से कांग्रेस विधायक गजराज सिंह की सीट पर सपा ने तेजपाल को उतार दिया है।

कांग्रेस के नेता सकते में, गुलाम नबी अजाद लखनऊ रवाना

उत्तर प्रदेश कांग्रेस के नेता इस फैसले से सकते में आ गए है। ज्यादातर इस मामले में प्रतिक्रिया देने से बच रहे हैं। वहीं बहुत से नेताओं के फोन बंद हो गये है। पार्टी के यूपी प्रभारी गुलाम नबी आजाद दिल्ली से लखनऊ के लिए रवाना हो गए हैं।

क्या हो सकता है ?

कांग्रेस अखिलेश के इस राजनीतिक दांव को अभी तो सिर्फ समझने में लगे है पर माना जा रहा है कि अब गठबंधन टूट की ओर है। वहीं कांग्रेस नेता बातचीत से इसे सुलझाने की कोशिश में हैं। इस बीच सपा के कुछ नेता रालोद के भी संपर्क मे बताए जा रहे है। रालोद ने सपा से 30 सीटें मांगी थी पर कांग्रेस के विरोध की वजह से उसे ज्यादा से ज्याद 20 सीटें का ही प्रस्ताव मिला था। ऐसे में साफ है कि एक बार फिर सपा और रालोद से बातचीत कुछ नया गुल खिला सकती है। वैसे उन सभी सीटों पर सपा ने प्रत्य़ाशी उतार दिए हैं जिन पर रालोद का दावा था।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story