Top

बीजेपी और विहिप नेता ही कर रहे मंदिर की जमीन पर कब्जा, करोड़ो का है मामला

देश में राम मंदिर की स्थापना बड़ा मसला बना ही हुआ है, स्वयं बीजेपी के नेता मंदिर निर्माण की बात कर रहे, अभी ये मसला हल नहीं हुआ है के यहां भाजपा और विहिप नेताओ द्वारा मठ की जमीन को कब्जा कर बेचने का काम किया है।

Manali Rastogi

Manali RastogiBy Manali Rastogi

Published on 23 Nov 2018 5:35 AM GMT

बीजेपी और विहिप नेता ही कर रहे मंदिर की जमीन पर कब्जा, करोड़ो का है मामला
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

सुलतानपुर: देश में राम मंदिर की स्थापना बड़ा मसला बना ही हुआ है, स्वयं बीजेपी के नेता मंदिर निर्माण की बात कर रहे, अभी ये मसला हल नहीं हुआ है के यहां भाजपा और विहिप नेताओ द्वारा मठ की जमीन को कब्जा कर बेचने का काम किया है।

यह भी पढ़ें: वीडियो: कार्तिक पूर्णिमा पर्व पर आज कानपुर में श्रद्धालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी

मंदिर के महंत मकसुदनाचार्य ने डीएम समेत कई अधिकारियों के कार्यालय के चक्कर लगाए लेकिन नतीजा ढ़ाक के तीन पात। ऐसे में सैया भये कोतवाल तो डर काहे का वाली कहावत बिल्कुल सटीक बैठ रही है, के जब कब्जे दार सत्ता धारी दल के लोग हैं तो कार्यवाई हो भी तो कैसे।

शहर के गोलाघाट स्थित वेदांती आश्रम का मामला

बता दें कि शहर के गोलाघाट के पास वेदांती आश्रम स्थित है, जो कि एक एकड़ में फैला हुआ है। इसकी कीमत करोडो क्या अरबो में है। 2017 के विधानसभा चुनाव में इसौली से बीजेपी के प्रत्याशी रहे ओम प्रकाश पांडेय मंदिर ने इस जगह काम्प्लेक्स बनाने के चक्कर में मंदिर पर कब्ज़ा करना शुरू कर दिया, जब मंदिर के महंत ने विरोध किया तो उनको दुत्कार दिया और कहा की सरकार अपनी है जो हम कहेंगे वही होगा।

बेटे व मित्र के बेटे के नाम करवाया जमीन

वेदांती आश्रम की देख-रेख के महाराज वेदांती ने महंत मकसुदनाचार्य को दिया, लेकिन इस आश्रम पर बीजेपी कार्यकर्ता ओम प्रकाश पांडेय की नज़र पड़ गयी है और ओम प्रकाश पांडेय ने इस आश्रम को कब्ज़ा करने को लेकर फर्जी ढंग से रजिस्टार कार्यलय से मठ में कार्य कर रहे महंत प्रपन्नाचार्य के नाम करवा लिया।

यह भी पढ़ें: कार्तिक पूर्णिमा: काशी के घाटों पर उमड़ी आस्था की भीड़, लाखों लोगों ने लगाई गंगा में डुबकी

जिसको लेकर दीवानी न्यायालय में मुकदमा भी चला, लेकिन वहां पर महंत मकसुदनाचार्य को विजय मिली। ओम प्रकाश पांडेय ने फर्जी ढंग से ट्रस्ट की जमीन को अपने बेटे व मित्र के बेटे के नाम पर करवा कर बेचने का काम करना शुरू कर दिया।

यह भी पढ़ें: विदेशियों में बढ़ने लगा है देव दीपावली का क्रेज, मोदी ने किया ग्लोबलाइज

जिसके कारण महंत ने जिले के आलाधिकारियों से शिकायत की लेकिन नतीजा धाक के तीन पात ही रहा। इस मामले पर डीएम विवेक कुमार से जब बात की गई तो उन्होंने कहा कि मामले की जांच करवाई जा रही है। जांच के बाद उचित कार्यवाई की जाएगी।

Manali Rastogi

Manali Rastogi

Next Story