ममता को गिरिराज का करारा जवाब: ट्वीट करके कही ये बड़ी बात

मशहूर बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह अक्सर अपने विवादित बयानों के चलते चर्चा में बने रहते हैं। एक बार फिर गिरिराज सिंह ने अपने बयान के चलते चर्चा में बन गए हैं।

ममता को गिरिराज का करारा जवाब: ट्वीट करके कही ये बड़ी बात

ममता को गिरिराज का करारा जवाब: ट्वीट करके कही ये बड़ी बात

नई दिल्ली: मशहूर बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह अक्सर अपने विवादित बयानों के चलते चर्चा में बने रहते हैं। एक बार फिर गिरिराज सिंह ने अपने बयान के चलते चर्चा में बन गए हैं। इस बार उन्होंने जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला पर निशाना साधा है। दरअसल हाल ही में में उमर अब्दुल्ला की एक तस्वीर काफी चर्चा में रही, जिसमें वो काफी बड़ी दाढ़ी के साथ दिखाई दे रहे हैं। इस फोटो पर गिरिराज ने तंज कसते हुए कहा है कि, कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35a हटाया था… उस्तरा (Razor) नहीं ??

यह भी पढ़ें: वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये PM मोदी करेंगे नागपुर मेट्रो की एक्वा लाइन का शुभारंभ

ममता बनर्जी ने किया था ये ट्वीट

गिरिराज सिंह ने पश्चिम बंगाल की मुख्य मंत्री ममता बनर्जी के ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा कि, कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35a हटाया था… उस्तरा (Razor) नहीं ?? बता दें कि ममता बनर्जी ने उमर के इस फोटो को ट्विटर पर शेयर करते हुए लिखा था कि, मैं इस तस्वीर में उमर को पहचान नहीं पाई। मैं बुरा महसूस कर रही हूं। दुर्भाग्यपूर्ण हमारे डेमोक्रेटिक देश में यह सब हो रहा है। इसका अंत कब होगा? ममता बनर्जी के इसी ट्वीट को गिरिराज सिंह ने रिट्वीट किया है।

यह भी पढ़ें: सेना पर खौफनाक हमला: आतंकियों ने चलाई ताबड़तोड़ गोलियां, 6 सैनिक शहीद

इंटरनेट सेवा बहाल होने के बाद सामने आई तस्वीर

उमर अब्दुल्ला की यह तस्वीर 25 जनवरी को जम्मू-कश्मीर के 20 जिलों में 2 जी इंटरनेट सेवा बहाल होने के बाद सोशल मीडिया पर आई थी। जिसके बाद हर तरफ इस तस्वीर की चर्चा हो रही है। बता दें कि आर्टिकल 370 हटाने के बाद घाटी में कुछ नेताओं को नजरबंद रखा गया था। जिसमें उमर अब्दुल्ला भी शामिल थे।

5 अगस्त को हटाया गया आर्टिकल 370

गौरतलब है कि, केंद्र की मोदी सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए 5 अगस्त 2019 को जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 को लागू किया था। घाटी में आर्टिकल 370 लागू होने के बाद लद्दाख जम्मू-कश्मीर से एक अलग राज्य बन गया। लद्दाख बिना विधानसभा वाला केंद्र शासित राज्य बना।

यह भी पढ़ें: अभी हुआ भयानक बम धमाका: आतंकियों ने नापाक हरकत, दहशत में लोग