Top

BJP की तिरंगा यात्रा आज से, शाह आएंगे काकोरी, जिलों में जाएंगे मंत्री

By

Published on 9 Aug 2016 12:25 AM GMT

BJP की तिरंगा यात्रा आज से, शाह आएंगे काकोरी, जिलों में जाएंगे मंत्री
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊः यूपी में होने वाले विधानसभा चुनावों को जीतने की कवायद में जुटी बीजेपी अब तिरंगे और शहीदों के सहारे अपना किला मजबूत कर रही है। आजादी के 70 साल बाद बीजेपी की ओर से चलाए जा रहे कार्यक्रम तिरंगा यात्रा और जरा याद करो कुर्बानी के तहत देश भर में बीजेपी नेता आजादी और क्रांति से जुड़े स्थलों पर 9 अगस्त से 23 अगस्त तक जाकर तिरंगा लहराएंगे।

बीजेपी यूपी में जातिगत किले को ढहाने के लिए आवाम को देश प्रेम की धारा में जोड़ने की कोशिश कर रही है। इससे पहले भी मंदिर मुद्दे के जरिए बीजेपी ने यूपी में जातिगत दीवारों को तोड़ने की कोशिश की थी और सफल भी हुई थी। यूपी में सपा और बसपा का अपना जातिगत वोट बैंक है। बीजेपी इसी वोट बैंक को तोड़ने की कोशिश कर रही है।

अमित शाह पहुंचेंगे काकोरी

तिरंगा यात्रा के दौरान पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह 13 अगस्त को काकोरी में शहीद स्मारक पर तिरंगा लहराएंगे।

केंद्रीय मंत्री फहराएंगे तिरंगा

मोदी सरकार के तमाम मंत्रियों को भी तिरंगा यात्रा में शामिल किया गया है। गृहमंत्री राजनाथ सिंह को अशफाक उल्लाह खान, राम प्रसाद बिस्मिल और रोशन सिंह की जन्मस्थली शाहजहांपुर में तिरंगा यात्रा का जिम्मा सौंपा गया है। केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी मुगलसराय, उमा भारती झांसी, रामविलास पासवान अकबरपुर, जेपी नड्डा लखनऊ, चौधरी वीरेन्द्र सिंह प्रतापगढ़, प्रकाश जावड़ेकर गोरखपुर में तिरंगा फहराएंगे।

और भी मंत्रियों को जिम्मा

इनके अलावा धर्मेन्द्र प्रधान आगरा, पीयूष गोयल नंगला, चन्द्रभान मथुरा, केन्द्रीय राज्य मंत्री राम कृपाल यादव बिजनौर, हरिभाई गाजियाबाद, किरन रिजिजू कानपुर और कृष्णपाल अलीगढ़, राज्यवर्धन सिंह राठौर मेरठ और अनुप्रिया पटेल फैजाबाद में तिरंगा यात्रा कार्यक्रमों में शामिल होंगे।

बीजेपी प्रवक्‍ता विजय बहादुर पाठक ने क्‍या कहा

तिरंगा यात्रा पर बीजेपी प्रवक्‍ता विजय बहादुर ने बताया कि इस बार 15 अगस्‍त को एक रस्‍म के तौर पर न मनाकर देश के प्रति शहीदों के बलिदान को याद दिलाना हैै। देश्‍ा प्रेम की भावना को जागृत करना है। जिससे देश प्रेम का वातावरण बन सके।

Next Story